शुक्रवार, जून 28, 2013

जीवन बचा हुआ है अभी---------


 
 
 
                                                 रुंधे कंठ से फूट रहें हैं
                                       अब भी
                                       भुतहे भाव भजन-----
                                       
                                       शिवलिंग,नंदी,नाग पुराना
                                       किंतु झांझ,मंजीरे,ढोलक
                                       चिमटे नये,नया हरबाना
                                       रक्षा सूत्र का तानाबाना
                                      
                                       भूखी भक्ति,आस्था अंधी
                                       संस्कार का
                                       रोगी तन मन------
                                               
                                        गंग,जमुन,नर्मदा धार में
                                        मावस पूनम खूब नहाय
                                        कितने पुण्य बटोरे
                                        कितने पाप बहाय
                                       
                                        कितनी चुनरी,धागे बांधे
                                        चाहे जब
                                        भरा नहीं दामन-------
                                              
                                        जीवन बचा हुआ है अभी
                                        एक विकल्प आजमायें
                                        भू का करें बिछावन
                                        नभ को चादर सा ओढें
                                        और सुख से सो जायें
                                         
                                         दाई से क्या पेट छुपाना
                                         जब हर
                                         सच है निरावरण-------
                                                           
                                                            "ज्योति खरे"
 
 
चित्र---
गूगल से साभार






 
 

 

41 टिप्‍पणियां:

ashokkhachar56@gmail.com ने कहा…

waaaaaaaaaah bhut achchi rachna hai......bhot khub jitni tari kare kam hai waaaaaaah

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

बहुत सुंदर रचना,,,

RECENT POST: ब्लोगिंग के दो वर्ष पूरे,

विभा रानी श्रीवास्तव ने कहा…

शुभप्रभात
जीवन बचा हुआ है अभी एक विकल्प आजमायें भू का करें बिछावन नभ को चादर सा ओढें और सुख से सो जायें दाई से क्या पेट छुपाना जब हर सच है निरावरण
सच में
सादर ....

Ranjana verma ने कहा…

बहुत सुंदर रचना.. सुंदर अभिव्यक्ति .......!!

Ranjana verma ने कहा…

बहुत सुंदर रचना.. सुंदर अभिव्यक्ति .......!!

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा आज शनिवार (29-06-2013) को कड़वा सच ...देख नहीं सकता...सुखद अहसास ! में "मयंक का कोना" पर भी है!
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' ने कहा…

सॉरी... लिंक गलत हो गया था!
बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा आज शनिवार (29-06-2013) को कड़वा सच ...देख नहीं सकता...सुखद अहसास ! में "मयंक का कोना" पर भी है!
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

poonam ने कहा…

sunder aur sarthak bhav

ओंकारनाथ मिश्र ने कहा…

बहुत सुन्दर रचना.

रविकर ने कहा…

बढ़िया है आदरणीय-
शुभकामनायें-

vandan gupta ने कहा…

बहुत सुन्दर रचना.

Harihar (विकेश कुमार बडोला) ने कहा…

जीवन बचा हुआ है अभी एक विकल्प आजमायें भू का करें बिछावन नभ को चादर सा ओढें और सुख से सो जायें.......गजब अनुभूति।

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

बहुत खूबसूरत रचना.

रामराम.

ज्योति-कलश ने कहा…

जीवन बचा हुआ है अभी एक विकल्प आजमायें भू का करें बिछावन नभ को चादर सा ओढें और सुख से सो जायें दाई से क्या पेट छुपाना जब हर सच है निरावरण
...यथार्थ ....
सादर
ज्योत्स्ना शर्मा

संध्या शर्मा ने कहा…

सच को स्वीकारना ही होता है, यही जीवन है... सार्थक भाव... आभार

रचना दीक्षित ने कहा…

गंग,जमुन,नर्मदा धार में मावस पूनम खूब नहाय कितने पुण्य बटोरे कितने पाप बहाय.

सच को छुपाना मुश्किल है. सुंदर भावपूर्ण प्रस्तुति.

महेन्द्र श्रीवास्तव ने कहा…

क्या बात, बहुत सुंदर रचना

Aparna Bose ने कहा…

दाई से क्या पेट छुपाना
जब हर
सच है निरावरण------- सार्थक

Aditya Tikku ने कहा…

lajawab-***

Unknown ने कहा…

sundar arthpoorna rachna ..

मेरी नयी रचना Os ki boond: लव लैटर ...

sharad ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
sharad ने कहा…



भ्रम जाल में फंसे इंसान को सच का दर्पण दिखाती रचना ....... साधुवाद

Tanuj arora ने कहा…

सुन्दर शब्दों के साथ एक सार्थक बात.....

Kailash Sharma ने कहा…

जीवन बचा हुआ है अभी
एक विकल्प आजमायें
भू का करें बिछावन
नभ को चादर सा ओढें
और सुख से सो जायें

....बहुत सुन्दर और सटीक प्रस्तुति...

Satish Saxena ने कहा…

वाह भाई जी ..

गहरी अभिव्यक्ति..

Dr. Shorya ने कहा…

वाह बहुत सुंदर अभिव्यक्ति , ढेरो शुभकामनाये,यहाँ भी पधारे


http://shoryamalik.blogspot.in/2013/04/blog-post_5919.html

संजय भास्‍कर ने कहा…

एक विकल्प आजमायें
भू का करें बिछावन
नभ को चादर सा ओढें
और सुख से सो जायें

....बहुत सुन्दर और सटीक प्रस्तुति...
फुर्सत मिले तो शब्दों की मुस्कराहट पर......Recent पोस्ट... बड़ी बिल्डिंग के बड़े लोग :) पर ज़रूर आईये

Unknown ने कहा…

आपकी यह उत्कृष्ट रचना कल दिनांक 05.07.2013 को http://blogprasaran.blogspot.in/ पर लिंक की गयी है। कृपया देखें और अपने सुझाव दें।

Alpana Verma ने कहा…

jeevan bacha hua hai..umeed hari rahani chaheeye.
achchhee kavita.

शिवनाथ कुमार ने कहा…

जीवन बचा हुआ है अभी
एक विकल्प आजमायें
भू का करें बिछावन
नभ को चादर सा ओढें
और सुख से सो जायें

बहुत खूब
सादर !

Amrita Tanmay ने कहा…

सुंदर रचना..

Alpana Verma ने कहा…

बहुत अच्छी काव्याभिव्यक्ति.

Alpana Verma ने कहा…

डॉ. जेन्नी शबनम ने कहा…

गहन और गंभीर सोच. प्रकृति को भूल मनुष्य उलझा है बस...

भूखी भक्ति,आस्था अंधी
संस्कार का
रोगी तन मन------

बहुत अच्छी रचना, बधाई.

बेनामी ने कहा…

बहुत सुंदर रचना,,,

Asha Joglekar ने कहा…

हर सच है निरावरण ।

सच्ची सुंदर प्रस्तुति ।

आत्मसृजन ने कहा…

बहुत सुन्दर

दिगम्बर नासवा ने कहा…

प्राकृति के सच को अभिव्यक्ति करती ...

Mohan Srivastav poet ने कहा…

बहुत सुंदर प्रस्तुति है आपकी,मेरी हार्दिक शुभकामनाएं

मेरा मन पंछी सा ने कहा…

बहुत बेहतरीन रचना ...
:-)

Dr.NISHA MAHARANA ने कहा…

kya bat hai dil aur dimag ka anokha sangam .....lajavaab prastuti ....