सोमवार, अप्रैल 08, 2013

जंगल में कट जाये--------

                                         सुलगते कंडों से
                                         निकलती धुंये की धार
                                         जंगल में कट जाये
                                         ज्यों इतवार----
                                         गोधूलि बेला में
                                         उड़ती धूल
                                         पीड़ाओं के आग्रह से
                                         मुरझाते फूल
                                         प्रेम की नांव
                                         डूब रही मझधार-----

                                                           "ज्योति खरे"

19 टिप्‍पणियां:

Vikesh Badola ने कहा…

अतिसुन्‍दर पंक्तियां।

ब्लॉग बुलेटिन ने कहा…

आज की ब्लॉग बुलेटिन प्रथम भारतीय स्वतन्त्रता संग्राम के अग्रदूत - अमर शहीद मंगल पाण्डेय - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

Kalipad "Prasad" ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
Kalipad "Prasad" ने कहा…

खुबसूरत रचना
LATEST POSTसपना और तुम

धीरेन्द्र अस्थाना ने कहा…

behtreen panktiyan

par umeed hari hi rhe.

आनन्द विक्रम त्रिपाठी ने कहा…

संक्षेप में बहुत कुछ कहा ,सुंदर |

expression ने कहा…

बहुत बढ़िया.....
जंगल में इतवार...

सादर
अनु

Reena Maurya ने कहा…

बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति...
:-)

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

सुंदर अभिव्यक्ति

Ranjana Verma ने कहा…

सुंदर प्रस्तुति

poonam ने कहा…

khub kaha

डॉ. मोनिका शर्मा ने कहा…

गहरी अभिव्यक्ति....

दिलीप ने कहा…

bahut khoob sir...

निहार रंजन ने कहा…

बहुत सुन्दर.

RAHUL- DIL SE........ ने कहा…

पीड़ाओं के आग्रह से
मुरझाते फूल.....
दिल की बात ....बढ़िया

Rajendra Kumar ने कहा…

बहुत ही बेहतरीन सुन्दर प्रस्तुति,आभार.

Kavita Rawat ने कहा…

बहुत बढ़िया प्रस्तुति!

दिगम्बर नासवा ने कहा…

प्रेम की नव को मिल के ऊपर उठाना है ... ये निशा को दूर भगाना है ..

Manav Mehta 'मन' ने कहा…

बहुत बढ़िया