शनिवार, अप्रैल 06, 2013

नमीं थी--------

                                  
                                  दीवाल पर टंगे
                                  सफ़ेद कागज़ पर
                                  काली स्याही की
                                  कुछ बूंदें जमीं थी---
 


                                 अमावस की रात
                                 चांदनी की
                                 आंख से टपकी
                                 नमीं थी--------

                                                        "ज्योति खरे"
 

18 टिप्‍पणियां:

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

बेहतरीन सुंदर भाव !!!

RECENT POST: जुल्म

Saras ने कहा…

बिम्ब सुन्दर लगे ...!!!

निहार रंजन ने कहा…

सुन्दर.

abhai srivastava ने कहा…

बहुत अर्थपूर्ण

Dr.NISHA MAHARANA ने कहा…

waah gagar me sagar

Vikesh Badola ने कहा…

बेहद सुन्‍दर।

रचना दीक्षित ने कहा…

सुंदर भाव की अर्थपूर्ण प्रस्तुति.

Ranjana Verma ने कहा…

बेहतरीन रचना

आशा बिष्ट ने कहा…

शब्द संजीदगी लिए हुए।
बेहतरीन ।।।

आशा बिष्ट ने कहा…

शब्द संजीदगी लिए हुए।
बेहतरीन ।।।

Onkar ने कहा…

बहुत सुन्दर

Ranjana Verma ने कहा…

बेहतरीन रचना !

डॉ. मोनिका शर्मा ने कहा…

बेहतरीन......

Suman ने कहा…

समझने की कोशिश कर रही हूँ !

रविकर ने कहा…

सुन्दर प्रस्तुति -
आभार आदरणीय-

Yashwant Mathur ने कहा…

बेहतरीन



सादर

सदा ने कहा…

अनुपम भाव ...
आभार

Neetu Singhal ने कहा…

बहने दो रगों में खूने कतरात को..,
जमीं पे गिरे तो चीख उठंगे.....