मंगलवार, अप्रैल 02, 2013

हल्ला बोल बे--------

                                 चिल्लाकर मुहं खोल बे
                                 हल्ला बोल,हल्ला बोल बे----
 

                                 नेताओं की तोंद देखकर
                                 पचका पेट टटोल बे----
 

                                 सुरा सुंदरी और सत्ता का
                                 स्वाद चखो बकलोल बे----
 

                                 सत्ता नाच रही सड़कों पर
                                 चमचे बजा रहे ढोल बे----
 

                                 बहुमत का फिर हंगामा
                                 बता दे अपना मोल बे----
 

                                 भिखमंगे जब बहुमत मांगें
                                 खोल दे इनकी पोल बे---- 
 

                                 तेरे बूते राजा और रानी
                                 दिखा दे अपना रोल बे----
 

                                 बेशकीमती लोकतंत्र को
                                 फ़ोकट में मत तॊल बे----
 

                                 अब मतदान नहीं करना
                                 कानों में रस घोल बे----
 

                                                        "ज्योति खरे"



30 टिप्‍पणियां:

RAHUL- DIL SE........ ने कहा…

तेरे बूते राजा और रानी
दिखा दे अपना रोल बे----
बेहतरीन और मौजू ...

Anju (Anu) Chaudhary ने कहा…

खूब ज़ोर से व्यंग्य में हल्ला बोला ..बहुत खूब

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

बहुत सटीक व्यंग के साथ हल्ला बोला,,,

,,,Recent post : होली की हुडदंग कमेंट्स के संग

संध्या शर्मा ने कहा…

आज इसी तरह के हंगामे और हल्ला बोल की जरुरत है...सटीक धारदार रचना... आभार

Manika Mohini ने कहा…

यह कविता अलग मिजाज़ की है, पर बहुत अच्छी है।

Manika Mohini ने कहा…

यह कविता अलग मिजाज़ की है, पर बहुत अच्छी है।

सदा ने कहा…

काफी़ दम है इस हल्‍ले में ... बेहतरीन प्रस्‍तु‍ति

आभार

दिगम्बर नासवा ने कहा…

भिखमंगे जब बहुमत मांगें
खोल दे इनकी पोल बे----

हा हा .. सभी दमदार ... मज़ा आया जनाब ...

Virendra Kumar Sharma ने कहा…


बहुमत का फिर हंगामा
बता दे अपना मोल बे----

बेशकीमती लोकतंत्र को
फ़ोकट में मत तॊल बे----
तीर्थ बन गया तिहाड़ भैया ,

इसकी भी जय बोल बे .
बढ़िया व्यंग्य विडंबन .रूपकात्मक तत्व लिए है व्यंग्य रूप कविता रानी .

sharad ने कहा…

इस कविता के माध्यम से सामाजिक सारोकारों को बहुत ही निराले अंदाज में प्रस्तुत कर ज्योति भाई ने अपनी सिध्हस्त लेखनी को एक नया आयाम दिया है आप साधुवाद के पात्र हैं

sunil arya ने कहा…

bahut bahut...achcha.
bahut dino baad,itna achha padne ko mila. thanx..

नीलांश ने कहा…

अच्छी संदेशात्मक है आपकी ज्योति जी ,सुंदर

Brijesh Singh ने कहा…

बहुत सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति! वर्तमान दशा पर बहुत सुन्दरता से कटाक्ष किया आपने। इस रचना पर बधाई!

पी.सी.गोदियाल "परचेत" ने कहा…

तेरे बूते राजा और रानी
दिखा दे अपना रोल बे----

बेशकीमती लोकतंत्र को
फ़ोकट में मत तॊल बे----

बेहतरीन !

Suman ने कहा…

सटीक बात कही है !

Sarika Mukesh ने कहा…

सार्थक प्रस्तुति...लोकतंत्र पर हल्ला बोलती हुई...

Jyoti Mishra ने कहा…

funny and full of sarcasm..
enjoyed.. :)

Vikesh Badola ने कहा…

बहुत सार्थक कटाक्ष। आपकी आशा पूर्ण हो, ऐसी कामना है।

दिल की आवाज़ ने कहा…

सभी को एकजुट हो हल्ला बोल करने की जरुरत है
बेहतरीन

डॉ. जेन्नी शबनम ने कहा…

हल्ला बोल... अब नहीं तो कब, बोल... देश के हालात पर सटीक रचना, बधाई.

Dr.NISHA MAHARANA ने कहा…

भिखमंगे जब बहुमत मांगें
खोल दे इनकी पोल बे---- sahi bat.....

Saras ने कहा…

आपने तो वाकई जोर शोरसे हल्ला बोल दिया

निहार रंजन ने कहा…

बेजोड़ नाद निकला है आपकी इस रचना से.

अरुन शर्मा 'अनन्त' ने कहा…

हाहाहा अच्छा हल्ला बोल है आदरणीय सुन्दर एवं सटीक

Ranjana Verma ने कहा…

आज की राजनीति पर सटीक रचना .

विजय राज बली माथुर ने कहा…

असंवैधानिक संदेश देती कविता। नागरिकों से मतदान मे भाग न लेने का आह्वान 'तानाशाही'का समर्थन है जो लोकतन्त्र को नष्ट करने की साम्राज्यवादी साजिश का हिस्सा है।

Rohitas ghorela ने कहा…

अंतिम का शंदेश कुछ अच्छा नहीं लगा ..मतदान के अधिकार से वंचित रहने की सलाह दे रही हैं। बाकि सब ठीक हैं।

मेरे ब्लॉग पर भी आइये ..अच्छा लगे तो ज्वाइन भी कीजिये
पधारिये आजादी रो दीवानों: सागरमल गोपा (राजस्थानी कविता)

सतीश सक्सेना ने कहा…

वाह ..
आनंद आ गया ..
:)

expression ने कहा…

बहुत बढ़िया....
सटीक रचना..

सादर
अनु

Brijesh Singh ने कहा…

आपकी रचना निर्झर टाइम्स पर लिंक की गयी है। कृपया इसे देखें http://nirjhar-times.blogspot.com और अपने सुझाव दें।