बुधवार, जुलाई 17, 2013

केक्ट्स में तभी तो खिलेंगे--------

 
 
 
                             कुछ फर्क तो है
                             हमारे बीच
                             तुम पाना चाहती हो
                             मैं खोना चाहता हूं-------
 
                             समुद्र से ढूंढ़कर लाना चाहता हूं मोती
                             सुनना चाहता हूं
                             नदियों से निकलती
                             जलतरंग की मीठी आवाज-----
 
                             पिट रहे नगाड़ों का दर्द
                             बांसुरी की कराह-----
 
                              चाहता हूं बुझाना
                              धधकते सूरज की आग
                              धो देना चाहता हूं चाँद में लगा दाग
                              रोपना चाहता हूं
                              दरकी जमीन पर नई किस्म का बीज
                              ऊगाना चाहता हूं प्रेम की नयी फसल
                              मखमली हरी घास
                              जहां बैठकर कर सकें लोग
                              अपने खोने का हिसाब किताब------
 
                              और तुम
                              अपनी नाजुक नेलपालिश लगी उंगलियों से
                              संवारती रहती हो
                              गमले में लगे केक्ट्स----
 
                              मेरे साथ चलो
                              कुछ खोयेंगे
                              प्रेम की नयी परिभाषा लिखेंगे
                              केक्ट्स में तभी तो खिलेंगे
                              रंगबिरंगे फूल-------

 
                                                      "ज्योति खरे" 


चित्र गूगल से साभार
एक टिप्पणी भेजें