शुक्रवार, जुलाई 12, 2013

फूलों ने आने की खबर भेजी है-------

                                 बात क्षितिज पर बनाये रखिए
                                 हो-हल्ला हरदम मचाये रखिए-----
 
                                 काठ के पैर ठेके से बने हैं
                                 कठपुतली बना नचाये रखिए-----
 
                                 फूलों ने आने की खबर भेजी है
                                 कांटों से कमरा सजाये रखिए-----
 
                                 जान बचा भाग रही घबड़ाई भीड़
                                 आप अपने को बचाये रखिए-----

                                                               "ज्योति खरे"    

चित्र गूगल से साभार
एक टिप्पणी भेजें