बुधवार, अक्तूबर 09, 2013

पीड़ाओं का आग्रह----------

 
                              पीड़ाओं का आग्रह
                              दो विपरीत ध्रुवों को
                              ले आता है
                              आंखों ही आंखों से
                              पास और पास-----
                              फिर धीरे से
                              जेब में रख ली जाती है
                              पचड़े की पुड़िया

                              लुका दिया जाता है
                              आटे के कनस्तर में
                               उलाहना का बंडल

                               देखते ही देखते
                               छितर-बितर हो जाता है
                               ठहरा हुआ मौन

                               महकने लगती है
                               तम्बाखू में चंदन 

                               गायब हो जाता है
                               कमर का दर्द

                               अचानक
                               शहद सा चिपचिपाने लगता है
                               झल्लाता वातावरण

                               धीमी रौशनी
                               और धीमी हो जाती है
                               उलाहना और पचड़े की पुड़िया का
                               टूटकर बिखर जाता है
                               मौन संवाद

                               उखड़ती सांसों के बाद भी
                               अपने अपने अस्तित्व की
                               ऐंठ बनी रहती है

                               ताव में रख ली जाती है
                               पिछले जेब में पचड़े की पुड़िया
                               खोलकर रख दिया जाता है 
                               उलाहने का बंडल

                               संबंध
                               किसी के
                               किसी से भी
                               कहां कायम रह पाते हैं -------
                                                                     
                                                                         "ज्योति खरे"


 
चित्र--
गूगल से साभार

29 टिप्‍पणियां:

रश्मि शर्मा ने कहा…

संबंध किसी से किसी से भी कहां कायम रह पाते हैं -------बहुत बढ़ि‍या चि‍त्रण..इंसानी मनोभावों का

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज बृहस्पतिवार (10-10-2013) "दोस्ती" (चर्चा मंचःअंक-1394) में "मयंक का कोना" पर भी है!
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का उपयोग किसी पत्रिका में किया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
शारदेय नवरात्रों की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

पूरण खण्डेलवाल ने कहा…

सुन्दर प्रस्तुति !!

vibha rani Shrivastava ने कहा…

संबंध किसी से किसी से भी कहां कायम रह पाते हैं -------बहुत बढ़ि‍या चि‍त्रण
बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!

नीलिमा शर्मा ने कहा…

आपकी इस उम्दा रचना को "हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच}" चर्चा अंक -२२ निविया के मन से में शामिल किया गया है कृपया अवलोकनार्थ पधारे

Vikesh Badola ने कहा…

सम्‍बन्‍धों का धन और ॠण, क्‍या खूब प्रकट किया है।

Maheshwari kaneri ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!

Reena Maurya ने कहा…

बहुत बेहतरीन प्रस्तुति...
:-)

HARSHVARDHAN ने कहा…

आज की बुलेटिन जगजीत सिंह, सचिन तेंदुलकर और ब्लॉग बुलेटिन में आपकी इस पोस्ट को भी शामिल किया गया है। सादर .... आभार।।

निहार रंजन ने कहा…

समय की ठोकरें खाकर बहुत गिने चुने संबंध ही कायम रह पाते है. अति सुन्दर रचना.

आशा जोगळेकर ने कहा…

संबधों के टूटने जुडने का सुंदर चित्रण।

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

बेहतरीन रचना...!सम्बन्धों का सुंदर चित्रण...! नवरात्रि की शुभकामनाएँ ...!

RECENT POST : अपनी राम कहानी में.

shorya Malik ने कहा…

bahut sunder chitran

ई. प्रदीप कुमार साहनी ने कहा…

भाव पूर्ण रचना |

Suman ने कहा…


सुन्दर रचना ...

Virendra Kumar Sharma ने कहा…

विडंबनाओं से रचा समबन्ध संसार आज ऐसा ही है जहां दो विपरीत ध्रुओं के लोग साथ साथ क्रीडा करते हैं .बढ़िया अभिनव प्रतीक रचे हैं आपने .

दिगम्बर नासवा ने कहा…

बहुत ही लाजवाब बिम्ब के माध्यम से संबंधों का लेखा जोखा रखा है ... बहुत ही प्रभावी ....
दशहरा की मंगल कामनाएं ...

Ashok Khachar ने कहा…

बहुत सुन्दर .
बहुत सुन्दर .

Kaushal Lal ने कहा…

सुन्दर रचना.

बेनामी ने कहा…

रचना अच्छी लगी आपकी। बधाई

कल्पना रामानी ने कहा…

बहुत सुंदर कविता, हार्दिक बधाई

राजीव कुमार झा ने कहा…

बहुत सुंदर कविता.इंसानी मनोभावों का सुंदर चित्रण.
विजयादशमी की शुभकामनाएँ.

डॉ. मोनिका शर्मा ने कहा…

मर्मस्पर्शी अभिव्यक्ति....

parul chandra ने कहा…

ह्रदय की वेदना है यह जो आपके शब्दों में घुली है। दुखद तो है, पर संबन्ध बनाए रखने के लिए दोनों पक्षों को उत्कृष्ट श्रोता होना ज़रूरी है.. सुनना और बातों को उसी लहज़े में समझने से खेल बिगड़ जाता है और पचड़े की पुड़िया और उलाहनों का बंडल बढ़ता ही चला जाता है। बहुत अच्छा लिखा है सर। दशहरा शुभ हो।

Rakesh Kaushik ने कहा…

प्रशंसनीय प्रस्तुति

sadhana vaid ने कहा…

अत्यंत गहन एवँ उत्कृष्ट प्रस्तुति ! शब्दों की बाजीगरी बहुत कुछ संप्रेषित कर जाती है जो निश्चित रूप से चिंतनीय एवँ मननीय है ! बहुत सुंदर !

सतीश सक्सेना ने कहा…

सही कहा आपने भाई जी ..
आभार !!

विजय राज बली माथुर ने कहा…

'परस्पर सम्बन्धों का ताना-बाना ही समाज है'यह तो मात्र समाजशास्त्रीय सूत्र है। आज कहाँ संबंध स्थाई रहते हैं। ठीक किया है आंकलन।

kavita verma ने कहा…

peedaon ka swar mukhar hota hai ..bahut sundar .