गुरुवार, अक्तूबर 17, 2013

सीमा रेखा से-----

 
 
                                माँ 
                                जब तुम याद करती हो
                                मुझे हिचकी आती है
                                पीठ पर लदा
                                जीत का सामान
                                हिल जाता है----

                                 विजय पथ पर
                                 चलने में
                                 तकलीफ होती है----
                                 
                                 माँ
                                 मैं बहुत जल्दी आऊंगा
                                 तब खिलाना
                                 दूध भात
                                 पहना देना गेंदे की माला
                                 पर रोना नहीं
                                 क्योंकि
                                 तुम बहुत रोती हो
                                 
 
                                 सुख में भी
                                 दुःख में भी-------
                                                             
                                                                "ज्योति खरे" 

चित्र-- 
गूगल से साभार

25 टिप्‍पणियां:

Makhan lal Das ने कहा…

Very nice..
Would like to translate it , if you allow me
Thanks

दिगम्बर नासवा ने कहा…

माँ है न ... सुख दुख .. जब जब मिलती है ओलाद से रोती है ...
बहुत ही भावपूर्ण रचना ...

रश्मि प्रभा... ने कहा…

माँ तुम्हें आती है हिचकी ?
मेरे हर पल तुम्हें पुकारते हैं

Kaushal Lal ने कहा…

बहुत भावपूर्ण रचना ..

Vikesh Badola ने कहा…

रोन दो उसे, खुशी और दुख के आंसू होंगे।

कालीपद प्रसाद ने कहा…

बहुत भोलेपन से लिखी गई कविता दिल तक उतर गया |
latest post महिषासुर बध (भाग २ )

मदन मोहन सक्सेना ने कहा…

वाह, खूबसूरत

yashoda agrawal ने कहा…

आपकी लिखी रचना मुझे बहुत अच्छी लगी .........
शनिवार 19/10/2013 को
http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
में आपकी प्रतीक्षा करूँगी.... आइएगा न....
धन्यवाद!

राजीव कुमार झा ने कहा…

बहुत सुन्दर .
नई पोस्ट : लुंगगोम : रहस्यमयी तिब्बती साधना

expression ने कहा…

माँ के आँसू भी तो जिगर से निकलते हैं.....
उसके वश में कहाँ रोना/न रोना.....
बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति....

सादर
अनु

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शुक्रवार (18-10-2013) "मैं तो यूँ ही बुनता हूँ (चर्चा मंचःअंक-1402) पर भी होगी!
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

HARSHVARDHAN ने कहा…

आज की बुलेटिन अंतर्राष्ट्रीय गरीबी उन्मूलन दिवस और ब्लॉग बुलेटिन में आपकी इस पोस्ट को भी शामिल किया गया है। सादर .... आभार।।

Upasna Siag ने कहा…


बहुत सुन्दर प्रस्तुति..
आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आप की इस प्रविष्टि की चर्चा शनिवार 19/10/2013 को प्यार और वक्त...( हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल : 028 )
- पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया पधारें, सादर ....

Dr.NISHA MAHARANA ने कहा…

marmik .....ma bin suna hota hai mn ka kai kona ....

sushma 'आहुति' ने कहा…

बहुत ही खुबसूरत और प्यारी रचना..... भावो का सुन्दर समायोजन......

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

बेहतरीन,सुंदर रचना !

RECENT POST : - एक जबाब माँगा था.

parul chandra ने कहा…

बहुत सुन्दर

ई. प्रदीप कुमार साहनी ने कहा…

उम्दा प्रस्तुति |

मेरी नई रचना:- "झारखण्ड की सैर"

Maheshwari kaneri ने कहा…

बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना ..

Neeraj Kumar ने कहा…

बहुत ही सुन्दर रचना ..

कविता विकास ने कहा…

nice blog ...bhaavon se bhari rachnayen

Asha Saxena ने कहा…

उम्दा प्रस्तुति के लिए बधाई |

हरकीरत ' हीर' ने कहा…

आपकी कविता अच्छी लगी ...'माँ ' पर एक संग्रह निकाल रही हूँ अपनी दो रचनायें संक्षिप्त परिचय और तस्वीर के साथ भेज दें .....

pratibha sowaty ने कहा…

खुबसूरत अभिव्यक्ति सर

ब्लॉग बुलेटिन ने कहा…

पिछले २ सालों की तरह इस साल भी ब्लॉग बुलेटिन पर रश्मि प्रभा जी प्रस्तुत कर रही है अवलोकन २०१३ !!
कई भागो में छपने वाली इस ख़ास बुलेटिन के अंतर्गत आपको सन २०१३ की कुछ चुनिन्दा पोस्टो को दोबारा पढने का मौका मिलेगा !
ब्लॉग बुलेटिन के इस खास संस्करण के अंतर्गत आज की बुलेटिन प्रतिभाओं की कमी नहीं 2013 (17) मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !