मंगलवार, अक्तूबर 22, 2013

करवा चौथ का चाँद ------

                                  उसी दिन रख दिया था
                                  हथेली पर तुम्हारे
                                  जिस दिन
                                  मेरे आवारापन को
                                  स्वीकारा था तुमने-


                                  सूरज से चमकते गालों पर
                                  पपड़ाए होंठों पर
                                  रख दिये थे मैने 
                                  कई कई चाँद----
 

                                  करवा चौथ का चाँद
                                  उसी दिन रख दिया था
                                  हथेली पर तुम्हारे
                                  जिस दिन
                                  विरोधों के बावजूद
                                  ओढ़ ली थी तुमने
                                  उधारी में खरीदी
                                  मेरे अस्तित्व की चुन्नी--
 

                                  और अब
                                  क्यों देखती हो
                                  प्रेम के आँगन में
                                  खड़ी होकर
                                  आटे की चलनी से
                                  चाँद----
 

                                 तुम्हारी मुट्ठी में कैद है
                                 तुम्हारा अपना चाँद----
                                                                           

                                                                "ज्योति खरे"  

 चित्र -
 गूगल से साभार


 
 

23 टिप्‍पणियां:

कालीपद प्रसाद ने कहा…

तुम्हारी मुट्ठी में कैद है
तुम्हारा अपना चाँद- बहुत प्यारा चाँद
बहुत खुबसूरत रचना !
नई पोस्ट मैं

vibha rani Shrivastava ने कहा…

तुम्हारी मुट्ठी में कैद है
तुम्हारा अपना चाँद-
नमन आपके जज्बात को
मंगलकामनाएं
सादर

Aparna Bose ने कहा…

bohat sundar abhivyakti..bhavpoorn

Kaushal Lal ने कहा…

बहुत खुबसूरत.....

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

तुम्हारी मुट्ठी में कैद है
तुम्हारा अपना चाँद-

वाह ! बहुत उम्दा अभिव्यक्ति ,,,क्या बात है !

RECENT POST -: हमने कितना प्यार किया था.

Virendra Kumar Sharma ने कहा…

सुन्दर बिम्ब अर्थ और भाव .

ये यूपी वाले छननी यानी जो छाने निथारे को भैया चलनी ही बोलते हैं .

राजीव कुमार झा ने कहा…

बहुत सुंदर.

राजीव कुमार झा ने कहा…

इस पोस्ट की चर्चा, बृहस्पतिवार, दिनांक :-24/10/2013 को "हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच}" चर्चा अंक -33 पर.
आप भी पधारें, सादर ....

सदा ने कहा…

मन को छूते भावों के साथ उत्‍कृष्‍ट प्रस्‍तुति

Neelima sharma ने कहा…

उत्तम भावाभिव्यक्ति

दिगम्बर नासवा ने कहा…

अंतस की गहराइयों से उपजे प्रेम की कथा ...
बहुत ही लाजवाब रचना ...

Kailash Sharma ने कहा…

बहुत ख़ूबसूरत प्रेममयी प्रस्तुति...

Ranjana Verma ने कहा…

बहुत खुबसूरत प्रेम की अभिव्यक्ति .....

parul chandra ने कहा…

वाह, क्या कहना!

वसुंधरा पाण्डेय ने कहा…

गजब...तुम्हारी मुट्ठी में कैद है
तुम्हारा अपना चाँद..........

ajay yadav ने कहा…

बहुत ही खूबसूरत प्रेमाभिव्यक्ति |सीधे ह्रदय से ,अंतर्मन से |बहुत बहुत आभार ,इतना सुंदर लिखने के लिए |
डॉ अजय |
'अजेय-असीम' ब्लॉग से |

Dev ने कहा…

प्रेम का खूबसूरत रेखांकन

ashish bhai ने कहा…

वास्तविकता में बहुत ही ख़ूबसूरत प्रेमयीं रचना
हिंदी टाइपिंग साफ्टवेयर डाउनलोड करें

prritiy----sneh ने कहा…

तुम्हारी मुट्ठी में कैद है
तुम्हारा अपना चाँद- बहुत प्यारा चाँद

waah bahut hi achhi rachna hai, prem bhaav se bhari.

shubhkamnayen

संजय भास्‍कर ने कहा…

तुम्हारी मुट्ठी में कैद है
तुम्हारा अपना चाँद-

..............वाह ! बहुत उम्दा

मेरे ब्लॉग में समल्लित हों
http://sanjaybhaskar.blogspot.in

Reena Maurya ने कहा…

प्रेम का अहसास लिए सुन्दर रचना....
:-)

babanpandey ने कहा…

वाह ! बहुत सुंदर प्रस्तुति ..मेरे भी ब्लॉग पर आयें

Incognito Thoughtless ने कहा…

वाह क्‍या बात कही है....

दौर पतझड़ का, उम्‍मीद तो हरी है.....

रहनी भी चाहिए....।

बधाई, उम्‍मीद के लिए...रचना के लिए....

अनुजा