सोमवार, मई 27, 2013

तपती गरमी जेठ मास में---

                              
 
 
                              
                              अनजाने ही मिले अचानक
                               एक दोपहरी जेठ मास में
                               खड़े रहे हम बरगद नीचे
                               तपती गरमी जेठ मास में-----
                               
                               प्यास प्यार की लगी हुई
                               होंठ मांगते पीना
                               सरकी चुनरी ने पोंछा 
                               बहता हुआ पसीना
                               रूप सांवला हवा छू रही
                               बेला महकी जेठ मास में-----
                               
                               बोली अनबोली आंखें
                               पता मांगती घर का
                               लिखा धूप में उंगली से
                               ह्रदय देर तक धड़का
                               कोलतार की सड़क ढूँढ़ती
                               भटकी पिघली जेठ मास में-----     
                             
                                स्मृतियों के उजले वादे
                                सुबह-सुबह ही आते
                                भरे जलाशय शाम तलक
                                मन के सूखे जाते
                                आशाओं के बाग़ खिले जब
                                बूंद टपकती जेठ मास में------

                                                           "ज्योति खरे" 

 

 चित्र- गूगल से साभार
 

 

48 टिप्‍पणियां:

Ashok Khachar ने कहा…

बहुत ही सुन्दर

Vikesh Badola ने कहा…

आशाओं के बाग़ खिले जब बूंद टपकती जेठ मास में-.......वाह बहुत खूब। पूरा गीत ही दिल में उतर गया है। प्रत्‍युत्‍तरों हेतु धन्‍यवाद।

Dr.NISHA MAHARANA ने कहा…

स्मृतियों के उजले वादे
सुबह-सुबह ही आते
भरे जलाशय शाम तलक
मन के सूखे जाते bahut khoob ...

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

बहुत बेहतरीन सुंदर रचना,,,

RECENT POST : बेटियाँ,

निहार रंजन ने कहा…

आशाओं के बाग़ खिले जब
बूंद टपकती जेठ मास में


बहुत खूब. बिलकुल सत्य.

Saras ने कहा…

यादों और सपनों की यह धूप छाँव सुन्दर लगी

Sriram Roy ने कहा…

आशाओं के बाग़ खिले जब
बूंद टपकती जेठ मास में------ बहुत ही सुन्दर

मैं और मेरा परिवेश ने कहा…

jeth ki tapti garmi main sunder kavita ki fuhar

expression ने कहा…

सुन्दर....
बहुत ही सुन्दर....भिगो गयी रचना....

सादर
अनु

Ranjana Verma ने कहा…

बहुत सुंदर रचना !!

Ranjana Verma ने कहा…

बहुत सुंदर रचना !!

महेन्द्र श्रीवास्तव ने कहा…

बहुत सुंदर रचना
क्या कहने

Maheshwari kaneri ने कहा…

पानी के बूंद सी सुन्दर रचना..

RAHUL- DIL SE........ ने कहा…

बरसे फुहार...

अरुणा ने कहा…

गर्मी में भी लगी शीतल फुहार
जेठ मास

Minakshi Pant ने कहा…

वाह वाह इंतनी सुन्दर रचना लिख ही डाली आपने इस तपती झुलसती जेठ मास में |
सुन्दर रचना |

shashi purwar ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
--
आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल बुधवार (29-05-2013) के (चर्चा मंच-1259) सबकी अपनी अपनी आशाएं पर भी होगी!
सूचनार्थ.. सादर!

shashi purwar ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
--
आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल बुधवार (29-05-2013) के http://charchamanch.blogspot.in (चर्चा मंच-1259) सबकी अपनी अपनी आशाएं पर भी होगी!
सूचनार्थ.. सादर!

kshama ने कहा…

स्मृतियों के उजले वादे
सुबह-सुबह ही आते
भरे जलाशय शाम तलक
मन के सूखे जाते
आशाओं के बाग़ खिले जब
बूंद टपकती जेठ मास में------
Wah!Wah!

shashi purwar ने कहा…

आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा कल बुधवार (29-05-2013) के सभी के अपने अपने रंग रूमानियत के संग ......! चर्चा मंच अंक-1259 पर भी होगी!
सादर...!

poonam matia ने कहा…

जेठ मास की झुलसती धुप .....सुंदर अभिव्यक्ति

vibha rani Shrivastava ने कहा…

शुभप्रभात
जेठ मास की बहुत सी खूबी दिख गई इस रचना में
लड़का-लड़की जेठ हो अपने घर के तो उन दोनों की शादी भी नहीं होती
जेठ मास में
क्या
सादर

अरुण कुमार निगम (mitanigoth2.blogspot.com) ने कहा…

स्मृतियों के उजले वादे
सुबह-सुबह ही आते
भरे जलाशय शाम तलक
मन के सूखे जाते
आशाओं के बाग़ खिले जब
बूंद टपकती जेठ मास में------

ज्येष्ठ मास का सुंदर वर्णन, तन मन तपन सभी चित्रित हुए.............

सदा ने कहा…

आशाओं के बाग़ खिले जब
बूंद टपकती जेठ मास में------
अनुपम भाव ... बेहतरीन अभिव्‍यक्ति

सादर

sadhana vaid ने कहा…

रश्मि शर्मा ने कहा…

Kailash Sharma ने कहा…

बोली अनबोली आंखें
पता मांगती घर का
लिखा धूप में उंगली से
ह्रदय देर तक धड़का
कोलतार की सड़क ढूँढ़ती
भटकी पिघली जेठ मास में-----

......बहुत खूब! बहुत भावपूर्ण मनभावन रचना...

पूरण खण्डेलवाल ने कहा…

Devdutta Prasoon ने कहा…

Rajput ने कहा…

वीना ने कहा…

स्मृतियों के उजले वादे
सुबह-सुबह ही आते
भरे जलाशय शाम तलक
मन के सूखे जाते
आशाओं के बाग़ खिले जब
बूंद टपकती जेठ मास में------

जवाब नहीं....बहुत खूबसूरत रचना...

Tanuj arora ने कहा…

Archana thakur ने कहा…

हरकीरत ' हीर' ने कहा…

mahendra verma ने कहा…

Shalini Rastogi ने कहा…

आपकी यह उत्कृष्ट रचना कल दिनांक २ जून २०१३ को http://blogprasaran.blogspot.in/ ब्लॉग प्रसारण पर लिंक की गई है , कृपया पधारें व औरों को भी पढ़े...

vibha rani Shrivastava ने कहा…

vibha rani Shrivastava ने कहा…

रचना दीक्षित ने कहा…

आशाओं के बाग़ खिले जब बूंद टपकती जेठ मास में------

जेठ के तपते मौसम में अगर आशाओं के बीज अंकुरित हों तो इससे सुंदर क्या.

सुंदर रचना.

महेन्द्र श्रीवास्तव ने कहा…

दिल की आवाज़ ने कहा…

कालीपद प्रसाद ने कहा…

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

kavita verma ने कहा…

संजय भास्‍कर ने कहा…

Shikha Gupta ने कहा…

Suman ने कहा…

स्मृतियों के उजले वादे
सुबह-सुबह ही आते
भरे जलाशय शाम तलक
मन के सूखे जाते
आशाओं के बाग़ खिले जब
बूंद टपकती जेठ मास में------
बहुत सुन्दर ....

सतीश सक्सेना ने कहा…