गुरुवार, मई 23, 2013

ओ मेरी सुबह---------



                               ओ मेरी सुबह
                               सींच देती हो
                               जीवन की सूखी जड़ें 
                               बहने लगती हो
                               ताजा खून बनकर
                               धमनियों में
                               कर देती हो फूलों के रंग चटक
                               पोंछ देती हो
                               एक-एक पत्तियों की धूल------

 
                               चमका देती हो
                               आइनों की तरह नदी
                               चुपड़ देती हो
                               पहाड़ पर गोरा रंग
                               भेज देती हो
                               ओस में नहलाकर
                               पंछियों को दाना चुगने--------

 
                               ओ मेरी सुबह
                               बिन बुलाये ही पहुंच जाती हो  
                               घर-घर
                               बिखेर देती हो उदारता से
                               शुभदिन की शुभकामनायें------

 
                               ओ मेरी सुबह
                               कहां से लाती हो
                               इतना उजलापन--------

                                                               "ज्योति खरे"
 
चित्र-गूगल से साभार

33 टिप्‍पणियां:

Vikesh Badola ने कहा…

बहुत ही अच्‍छे सकारात्‍मक भावार्थ के साथ प्रस्‍तुत किया है आपने सुबह को।

Ashok Khachar ने कहा…

kya bat hai bhot khub .....bhut skaratmak bhavarth pesh huve hai bhot khub

Maheshwari kaneri ने कहा…

बहुत सुन्दर सकारात्‍मक भाव लिए उत्तम रचना..

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

बहुत सुंदर सकारात्मक भावपूर्ण रचना,,,

Recent post: जनता सबक सिखायेगी...

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा कल शुक्रवार (24-05-2013) के गर्मी अपने पूरे यौवन पर है...चर्चा मंच-अंकः१२५४ पर भी होगी!
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

Dr.NISHA MAHARANA ने कहा…

bahut hi bhawpurn .....

Ranjana Verma ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
Ranjana Verma ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
Ranjana Verma ने कहा…

बहुत सुंदर सुबह की सार्थकता के साथ सुंदर प्रस्तुति!!

Ranjana Verma ने कहा…

बहुत सुंदर सुबह की सार्थकता के साथ सुंदर प्रस्तुति!!

vibha rani Shrivastava ने कहा…

शुभप्रभात
शुभदिन की शुभकामनायें
सादर

निहार रंजन ने कहा…

सुन्दर वर्णन.

शिवनाथ कुमार ने कहा…

सच है सुबह कण कण में नव उर्जा का संचार कर देता है
बहुत ही सुन्दर
सादर!

Aditi Poonam ने कहा…

नवीन ऊर्जा का संचार करती सुबह .....
बहुत सुंदर शुभ प्रभात...

महेन्द्र श्रीवास्तव ने कहा…

अच्छी रचना, बहुत सुंदर
आसान शब्दो में सार्थक बातें

सदा ने कहा…

कहां से लाती हो
इतना उजलापन ...
अनुपम भाव संयोजन ...
सादर

तुषार राज रस्तोगी ने कहा…

बेहद सटीक और भावों से परिपूर्ण सुबह का चित्रण | लाजवाब रचना | आभार

बेनामी ने कहा…

bahut khoob...

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बहुत सुंदर

vandana gupta ने कहा…

आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा शनिवार(25-5-2013) के चर्चा मंच पर भी है ।
सूचनार्थ!

Anita (अनिता) ने कहा…

बहुत सुंदर!
सच में! सुबह ऐसी ही तो होती है...
~सादर!!!

Rajendra Kumar ने कहा…

बहुत सुन्दर सकारात्‍मक भाव लिए उत्तम रचना,आभार.

अरुणा ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति ज्योतिजी

Prashant Suhano ने कहा…

सुन्दर रचना...

सतीश सक्सेना ने कहा…

रोज़ एक नया दिन, नए उत्साह के साथ , पिछला सब भुला कर !
मंगल कामनाएं भाई जी !

रश्मि शर्मा ने कहा…

ओ मेरी सुबह कहां से लाती हो इतना उजलापन--------बहुत ही प्‍यारी कवि‍ता...

vandana ने कहा…

सुबह की ताजगी सी ताज़ा अभिव्यक्ति

कालीपद प्रसाद ने कहा…

बहुत सुंदर सकारात्मक रचना, सुंदर प्रस्तुति!!

kshama ने कहा…


ओ मेरी सुबह
कहां से लाती हो
इतना उजलापन--------
Bahut aashawadi,sundar rachana!

दिगम्बर नासवा ने कहा…

बहुत खूब ... सुबह का इतना खूबसूरत वर्णन ... क्या कहने ... एहसास और जज्बात सुनहरी रंग में मिला दिए सुबह के ...

Minakshi Pant ने कहा…

वाह खुबसूरत अंदाज़ और सुबह का सुन्दर चित्रण |

Virendra Kumar Sharma ने कहा…

सुन्दर भाव संयोजन और अभिव्यक्ति अनुभूत सुबह की .

Virendra Kumar Sharma ने कहा…

सुन्दर भाव संयोजन और अभिव्यक्ति अनुभूत सुबह की .