बुधवार, सितंबर 04, 2013

कब तलक बैठें-------

 
                               बात विरोधाभास से ही टकराती है
                               सांप के काटे चिन्ह पर
                               नागफनी ऊग जाती है---
 
                               हर सुबह दीखता रहा सूरज
                               सांझ के आसरे में
                               कब तलक बैठें
                               खा गये हैं गोलियां
                               खूब उडने की
                               रात के अंधपन में
                               क्या देखें
 
 
                              सांप को मारकर
                              जीता पदक
                              रोज नागिन सूंघ जाती है-----
 
                              कौन कहता
                              हम विभाजित जी रहे
                              आदमी को आदमी से सी रहे
                              व्यर्थ में चीखकर आकाश में
                              दर्द में
                              दर्द की दवा पी रहे
 
                              खोखली
                              हर समय की
                              रूपरेखा में
                              एक डायन फूंक जाती है------
 
                                                               "ज्योति खरे"  

चित्र----गूगल से साभार


23 टिप्‍पणियां:

कालीपद प्रसाद ने कहा…

जिंदगी ही विरोधाभास से भरा पड़ा है - अच्छी रचना

HARSHVARDHAN ने कहा…

आज की बुलेटिन फटफटिया …. ब्लॉग बुलेटिन में आपकी इस पोस्ट को भी शामिल किया गया है। सादर .... आभार।।

Ashok Khachar ने कहा…

अच्छी रचना.बहुत शानदार

Aparna Bose ने कहा…

शानदार

आशा जोगळेकर ने कहा…

व्यर्थ में चीखकर आकाश में दर्द में दर्द की दवा पी रहे
खोखली हर समय की रूपरेखा में एक डायन फूंक जाती है------

वाह ।

vibha rani Shrivastava ने कहा…

सार्थक लेखन
संग्रहणीय पोस्ट
सादर

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
--
गुरूजनों को नमन करते हुए..शिक्षक दिवस की शुभकामनाएँ।
आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा आज बुधवार (22-06-2013) के शिक्षक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं ( चर्चा- 1359 ) में मयंक का कोना पर भी होगी!
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

निहार रंजन ने कहा…

बहुत ही गहरी रचना.

Maheshwari kaneri ने कहा…

जिंदगी में तो विरोधाभास ही विरोधाभास है..सुन्दर रचना के लिए बधाई.

सदा ने कहा…

बेहद सशक्‍त भाव रचना के ....

Vikesh Badola ने कहा…

आदमी से आदमी को सी रहे ......गहरी बात कह दी। पूरे दो माह के बाद वापसी हुई है। सब ठीक तो है?

सु..मन(Suman Kapoor) ने कहा…

बहुत बढ़िया

Brijesh Neeraj ने कहा…

आपकी यह सुन्दर रचना दिनांक 06.09.2013 को http://blogprasaran.blogspot.in/ पर लिंक की गयी है। कृपया इसे देखें और अपने सुझाव दें।

वसुंधरा पाण्डेय ने कहा…

बहुत सुन्दर...अद्भुत..!

रश्मि शर्मा ने कहा…

बहुत ही उत्‍कृष्‍ट रचना

ज्योति-कलश ने कहा…

बहुत सार्थक सुन्दर प्रस्तुति ...

Reena Maurya ने कहा…

सार्थक रचना..

सतीश सक्सेना ने कहा…

प्रभावशाली और अलग सी रचना ...
बधाई आपको !

उपासना सियाग ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
उपासना सियाग ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लागर्स चौपाल में शामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा कल - शनिवार हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल :007 http://hindibloggerscaupala.blogspot.in/ लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया आप भी पधारें, सादर ..

संजय भास्‍कर ने कहा…

बहुत ही उत्‍कृष्‍ट रचना

संजय भास्‍कर ने कहा…

"शब्दों की मुस्कुराहट पर
13)...अनकहा सच और अन्तःप्रवाह से प्रारब्ध तक का सफ़र बहुमुखी प्रतिभा:))
"

vinod vishwakarma ने कहा…

bahut sundar.....