बुधवार, सितंबर 04, 2013

कब तलक बैठें-------

 
                               बात विरोधाभास से ही टकराती है
                               सांप के काटे चिन्ह पर
                               नागफनी ऊग जाती है---
 
                               हर सुबह दीखता रहा सूरज
                               सांझ के आसरे में
                               कब तलक बैठें
                               खा गये हैं गोलियां
                               खूब उडने की
                               रात के अंधपन में
                               क्या देखें
 
 
                              सांप को मारकर
                              जीता पदक
                              रोज नागिन सूंघ जाती है-----
 
                              कौन कहता
                              हम विभाजित जी रहे
                              आदमी को आदमी से सी रहे
                              व्यर्थ में चीखकर आकाश में
                              दर्द में
                              दर्द की दवा पी रहे
 
                              खोखली
                              हर समय की
                              रूपरेखा में
                              एक डायन फूंक जाती है------
 
                                                               "ज्योति खरे"  

चित्र----गूगल से साभार


एक टिप्पणी भेजें