सोमवार, जुलाई 16, 2012

सुधबुध खो बेठी
बहक गया सावन
बारिश में भींग रहा
अल्हड़पन...............
      "ज्योति"
एक टिप्पणी भेजें