बुधवार, फ़रवरी 06, 2013

ओ मेरी सुबह---------



                                              ओ मेरी सुबह
                                              सींच देती हो जड़ें
                                              बहने लगती हो धमनियों में
                                              कर देती हो फूलों के रंग चटक
                                              पोंछ देती हो
                                              एक-एक पत्तियां-------

                                              आईने की तरह
                                              चमकने लगती है नदी
                                              पहाड़ गोरा हो जाता है
                                              निकल पड़ते हैं पंछी
                                              दाना चुगने--------

                                             ओ मेरी सुबह
                                             पहुंच जाती हो
                                             घर-घर
                                             बिखेर देती हो उदारता से
                                             शुभदिन की कामनायें------

                                             ओ मेरी सुबह                                
                                             कहां से लाती हो
                                             इतना उजलापन--------

                                                                     "ज्योति खरे"
 


18 टिप्‍पणियां:

vandana ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रकृति चित्रण

Main (Short Stories) ने कहा…

अच्छी कविता है

संध्या शर्मा ने कहा…

आईने की तरह
चमकने लगती है नदी
पहाड़ गोरा हो जाता है
निकल पड़ते हैं पंछी
दाना चुगने--------
सुन्दर सा दृश्य घूम गया आँखों के सामने... बहुत अच्छी रचना... आभार

kavita verma ने कहा…

subah ka sundar chitran..

दिगम्बर नासवा ने कहा…

बहुत खूब ... प्राकृति की दें है ऐसी सुबह ...
सुन्दर चित्रण ...

Amrita Tanmay ने कहा…

अति सुन्दर..

Reena Maurya ने कहा…

प्रकृति का बहुत सुन्दर चित्रण...
:-)

Reena Maurya ने कहा…

प्रकृति का बहुत सुन्दर चित्रण...
:-)

डॉ. मोनिका शर्मा ने कहा…

बनी रहे दिन की सार्थक शुरुआत.....

mridula pradhan ने कहा…

ओ मेरी सुबह
कहां से लाती हो
इतना उजलापन--------suraj se na.....

Vikesh Badola ने कहा…

सुबह का अभिसार

प्रकृति विस्‍तार.........सुन्‍दर

सतीश सक्सेना ने कहा…

ये कौन चित्रकार है ...??
शुभकामनायें आपको !

प्रसन्न वदन चतुर्वेदी ने कहा…

बहुत उम्दा प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

निहार रंजन ने कहा…

बहुत सुन्दर भोर का चित्रण .

सुशील ने कहा…

सबकी सुबह
आपकी सुबह
जैसी हो जाये
धुंद कोहरे छ्टे यूँ
उजलेपन में
खो जाये !

बहुत सुंदर !

दिनेश पारीक ने कहा…

बहुत सुन्दर बस ये सुबह बस युही बनी रहे
ये कैसी मोहब्बत है

pankhuri goel ने कहा…

bahut sundar subah ka varnan ...badhai :-)

बेनामी ने कहा…

aap mein kuchh to baat hai