शनिवार, फ़रवरी 02, 2013

सुना है-------

                                                          धुंधली आंखें भी
                                                          पहचान लेती हैं
                                                           भदरंग चेहरे
                                                           सुना है------
                                                           इन चेहरों में
                                                           मेरा चेहरा भी दीखता है-------

                                                           गुम गयी है
                                                           व्यवहार की किताब
                                                           शहर में
                                                           सुना है---------
                                                           गांव के कच्चे घरों में
                                                           अपनापन
                                                           आज भी रिसता है------
    
                                                           इस अंधेरे दौर में
                                                           जला कर रख देती है
                                                           बूढ़ी दादी
                                                           लालटेन
                                                           सुना है------
                                                            बूढ़ा धुआं
                                                            दर्द अपना लिखता है-------

                                                            नीम बरगद के भरोसे
                                                            झूलती हुई झूला
                                                            उड़ रही है आकाश में
                                                            खिलखिलाती
                                                            सुना है-------
                                                            प्यार की चुनरी के पीछे
                                                            चांद
                                                            आकर छिपता है--------

                                                            "ज्योति खरे"


 

15 टिप्‍पणियां:

Rekha Joshi ने कहा…

इस अंधेरे दौर में
जला कर रख देती है
बूढ़ी दादी
लालटेन
सुना है------
बूढ़ा धुआं
दर्द अपना लिखता हैsundr abhivykti Jyoti ji

Saras ने कहा…

ज्योतिजी ...गाँव का अपनापन , दुश्वारियां ....सौंधापन ...वहीँ इन सबसे बेखबर, एक अल्हड़ नवयौवना के भूरे भूरे सपने ......आपकी यह कविता मन में पैठ गयी है ....बहुत ही सुन्दर चित्र खींचा है आपने

Tejraj Gehloth ने कहा…

बिल्कुल सच सुना हैं

डॉ. जेन्नी शबनम ने कहा…

सभी क्षणिकाएँ भावपूर्ण और अर्थपूर्ण...

गुम गयी है
व्यवहार की किताब

शहर में
सुना है---------
गांव के कच्चे घरों में
अपनापन
आज भी रिसता है------

शुभकामनाएँ.

expression ने कहा…

बेहद खूबसूरत रचना....
इस अंधेरे दौर में
जला कर रख देती है
बूढ़ी दादी
लालटेन
सुना है------
बूढ़ा धुआं
दर्द अपना लिखता है-------
मर्मस्पर्शी एहसास....
बहुत सुन्दर
अनु

sushila ने कहा…

सुना है-------
प्यार की चुनरी के पीछे
चांद
आकर छिपता है--------

बहुत सुंदर

sushila ने कहा…

सुना है-------
प्यार की चुनरी के पीछे
चांद
आकर छिपता है--------

बहुत सुंदर

anjana ने कहा…

बहुत सुन्दर पंक्तियाँ

anjana ने कहा…

सुन्दर पंक्तियाँ

ज्योति खरे ने कहा…

आप सभी का आभार
आपकी प्रतिक्रिया लेखन को उर्जा प्रदान करती है

Pramila Arya ने कहा…

sundar bhav

सतीश सक्सेना ने कहा…

सही है ...
शुभकामनायें आपको !

हरकीरत ' हीर' ने कहा…

सुना है------
इन चेहरों में
मेरा चेहरा भी दीखता है----

बहुत खूब ....!!

Dr. Preeti Gupta ने कहा…

बूढ़ा धुआं
दर्द अपना लिखता है-------बहुत ही भावपूर्ण ....

Amrita Tanmay ने कहा…

बहुत ही अच्‍छा लिखा है..