रविवार, मार्च 10, 2013

वाह भोले वाह------------



                                                         वाह भोले वाह
                                                 गजब का जलवा है तुम्हारा
                                                         डंके की चोट पर
                                                            गली गली
                                                  स्थापित कर के रखे हो
                                                           अपना लिंग

                                                    और गुंडागर्दी तो देखो
                                                    दूध,दही,शहद से नहलाओ
                                                         फल फूल चढाओ
                                                         कोमल अखंडित
                                                         तीन पत्ती वाली
                                                         बेलपत्री रखो
                                                         तब मिलेगा  पीने
                                                             चरणामृत

                                                         मजाल है कोई कर दे
                                                         तुम्हारे सामने नंगई
                                                         ना बांधे कोई भक्त
                                                         विरोध शमन का
                                                             रक्षासूत्र
                                                         कुचारवा देते हो
                                                            नंदियों से
                                                         कमाल के गोटीबाज हो
                                                         हड़का कर रखते हो
                                                                भक्तों को

                                                             वाह भोले वाह--------

                                                              "ज्योति खरे"

15 टिप्‍पणियां:

Vikesh Badola ने कहा…

किसी बहाने ही सही ब्‍लॉग में भोले को याद तो किया। बढ़िया।

Kalipad "Prasad" ने कहा…

आपने भी भोलेनथ को अच्छा घुड्काया-चलो भक्त और भगवान में चलता है
latest postअहम् का गुलाम (दूसरा भाग )
latest postमहाशिव रात्रि

मैं और मेरा परिवेश ने कहा…

bhakt aur bhagwan ke beech sunder prem ki bangi

ज्योति खरे ने कहा…

aap sabhi ka aabhar

Saras ने कहा…

वह जैसे भी हैं.....बहुत बहुत बहुत अच्छे हैं ....हमारे भोले बाबा....भक्त का कितना ख्याल भी तो रखते हैं .....कितनी जल्दी प्रसन्न होकर वरदान दे देते हैं ...यह भी नहीं सोचते ...की देना उचित भी है की नहीं...सबके प्रिय भोले बाबा ...:)

शिवनाथ कुमार ने कहा…

भोले बाबा की क्लास ले ली आपने,,, बढ़िया :-)
सादर !

ज्योति खरे ने कहा…

सभी मित्रों का आभार

Vibha Rani Shrivastava ने कहा…

इतने सस्ते और सुलभ वस्तुओं से मानने वाले और ना कोई दूजा
ॐ नम: शिवाय ....
हर-हर महादेव ....
शिवाय नम: ॐ .... !!

Akhtar Kidwai ने कहा…

हर-हर महादेव ....

Shalini Rastogi ने कहा…

अब बोलेनाथ ने क्या कर दिया ..... य भोले के बहाने किसी और पे गुस्सा व्यक्त कर रहे हैं ?

Aditya Tikku ने कहा…

atiutam-***

Aziz Jaunpuri ने कहा…

SUNDAR ,JAI BHOLE NATH, HAR HAR MAHADEV

Rewa ने कहा…

wah ! ye bhi bhakti dihkane ka apna hi tarika hai

डॉ. जेन्नी शबनम ने कहा…

बहुत गंभीर सोच की रचना. आस्था भी अजीब है, जिसके लिए कोई तर्क नहीं.. शुभकामनाएँ.

अरुणा ने कहा…