बुधवार, मार्च 13, 2013

जान लौट आयेगी-------

      
                                                         सींचकर आंख की नमी से
                                                         रखती है तरोताजा
                                                         अपने रंगीन फूल 

                                                         संवारती है
                                                         टूटे आईने में देखकर
                                                         कई कई आंखों से
                                                         खरोंचा गया चेहरा
                                                         जानती है
                                                         सुंदर फूल
                                                         खिले ही अच्छे लगते हैं

                                                         मंदिर की सीढियां
                                                         उतरते चढ़ते
                                                         मनोकामनाओं की फूंक मारते
                                                        प्रेम के पत्तों में लपेटकर
                                                        बेच देती है
                                                        अपने फूल

                                                        भरती है राहत की सांस
                                                        चढ़ा देती है
                                                        बचा हुआ आखिरी फूल

                                                        कि शायद कोई देवता 
                                                        चुन ले 
                                                        कांटों में खिला फूल 
                                                        खींच दे हाथ में
                                                        सुगंधित प्यार की लकीर
 
                                                        मुरझाये फूल में
                                                        जान लौट आयेगी-------

                                                        "ज्योति खरे" 

26 टिप्‍पणियां:

Sarika Mukesh ने कहा…

....शायद कोई देवता
चुन ले
कांटों में खिला फूल
खींच दे हाथ में
सुगंधित प्यार की लकीर...

अच्छी प्रस्तुति!

Priti Surana ने कहा…

bahut sundar bhav,..:)

Vibha Rani Shrivastava ने कहा…

कि शायद कोई देवता चुन ले कांटों में खिला फूल खींच दे हाथ में सुगंधित प्यार की लकीर मुरझाये फूल में जान लौट आयेगी-------
उम्दा अभिव्यक्ति दिल को छू गए ..
सादर !!

Suman ने कहा…

कि शायद कोई देवता
चुन ले
कांटों में खिला फूल
खींच दे हाथ में
सुगंधित प्यार की लकीर
bahut sundar rachna hai ...bahut bahut aabhar !

पूरण खण्डेलवाल ने कहा…

सुन्दर रचना !!

Vikesh Badola ने कहा…

गम्‍भीर भाव से युक्‍त कविता।

मैं और मेरा परिवेश ने कहा…

tarif ke liye shabd kam pad rahe hain

शिवनाथ कुमार ने कहा…

हर फूल की अभिलाषा है यह ...
सुन्दर भाव ..
सादर !

दिगम्बर नासवा ने कहा…

मासूम सी चाहत ...
दिल में उतर गई सीधे से ...

Kailash Sharma ने कहा…

सींचकर आंख की नमी से
रखती है तरोताजा
अपने रंगीन फूल

...बहुत मर्मस्पर्शी पर यह उम्मीद ही जीवन की प्रेरणा है...

सतीश सक्सेना ने कहा…

वाकई ...
बेहतरीन अभिव्यक्ति के लिए बधाई आपको भाई जी !

डॉ. मोनिका शर्मा ने कहा…

हृदयस्पर्शी अभिव्यक्ति.....

Ranjana Verma ने कहा…

सुंदर रचना

रचना दीक्षित ने कहा…

दिल की बात है समझने वाले जरुर समझेंगे.

prritiy----sneh ने कहा…

waah! bahut sunder bhaav liye rachna

shubhkamnayen

RAHUL- DIL SE........ ने कहा…

कि शायद कोई देवता
चुन ले ....
-----------------------
सुन्दर ..बढ़िया ..

स्वप्न मञ्जूषा ने कहा…

बहुत ही अच्छी लगी आपकी कविता ..शब्द चयन, भाव-विन्यास, सभी कुछ सुन्दर है।

दिनेश पारीक ने कहा…

बहुत सुद्नर आभार आपने अपने अंतर मन भाव को शब्दों में ढाल दिया
आज की मेरी नई रचना आपके विचारो के इंतजार में
एक शाम तो उधार दो

आप भी मेरे ब्लाग का अनुसरण करे

दिनेश पारीक ने कहा…

बहुत सुद्नर आभार आपने अपने अंतर मन भाव को शब्दों में ढाल दिया
आज की मेरी नई रचना आपके विचारो के इंतजार में
एक शाम तो उधार दो

आप भी मेरे ब्लाग का अनुसरण करे

दिनेश पारीक ने कहा…

बहुत सुद्नर आभार आपने अपने अंतर मन भाव को शब्दों में ढाल दिया
आज की मेरी नई रचना आपके विचारो के इंतजार में
एक शाम तो उधार दो

आप भी मेरे ब्लाग का अनुसरण करे

संजय कुमार भास्‍कर ने कहा…

खरोंचा गया चेहरा
जानती है
सुंदर फूल
खिले ही अच्छे लगते हैं
इन पंक्तियों ने दिल छू लिया... बहुत सुंदर ....रचना....

Manika Mohini ने कहा…

कि शायद कोई देवता चुन ले कांटों में खिला फूल खींच दे हाथ में सुगंधित प्यार की लकीर

वाह, क्या बात है। अति सुन्दर।

Keshav Pandey ने कहा…

सुंदर भाव, बहुत खूब!

Keshav Pandey ने कहा…

सुंदर भाव, बहुत खूब!

Anju (Anu) Chaudhary ने कहा…

बाकई...सच को बयाँ करती रचना

अरुणा ने कहा…