सोमवार, अप्रैल 15, 2013

जीवन लगे लजीज----


                               गीत
                                    बांट रहा याचक हांथों को 
                                   राहत के ताबीज----

                                   प्यासी रहकर स्वयं चांदनी
                                   बांटे ओस-नमी
                                   बिछे गलीचे हरियाली के
                                   महफ़िल खूब जमी
                                                           
                                    बाँध पाँव में घुंघरु नाचे
                                    बिटिया बनी कनीज----
                                                           
                                    काटे नहीं कटे दिन जलते
                                    साहस रोज घटे
                                    खूब धड़ल्ले से चलते हैं
                                    अब तो नोट फटे
                                                          
                                    तीखी मिरची,गरम मसाला
                                    जीवन लगे लजीज----
                                                          
                                    हर टहनी पर,पत्ते पर है
                                    मकड़ी का जाला
                                    सुबह सिंदूरी कहाँ दिखे
                                    चश्मा पहना काला 
                                                         
                                    नये समय की,नयी सीख अब 
                                    देती नयी तमीज------
                                                                                
                                                                           "ज्योति खरे"





  

42 टिप्‍पणियां:

उपासना सियाग ने कहा…

बहुत सुन्दर रचना ...

HARSHVARDHAN ने कहा…

सच में आपकी रचना पढ़कर जीवन लगे लजीज। सुन्दर प्रस्तुति। धन्यवाद।

नये लेख : श्रद्धांजलि : अब्राहम लिंकन
प्राण जी को दादा साहब फाल्के पुरस्कार और भगत सिंह की याचिका।

Ranjana Verma ने कहा…

सुंदर प्रस्तुति आभार ..

Ranjana Verma ने कहा…

सुंदर प्रस्तुति आभार ..

Rajendra Kumar ने कहा…

बहुत ही बेहतरीन सुन्दर रचना,आपका आभार.

yashoda agrawal ने कहा…

आपकी यह बेहतरीन रचना बुधवार 17/04/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

सदा ने कहा…

हर प‍ंक्ति अपनी गहराई लिये हुये
सादर

Vikesh Badola ने कहा…

हर टहनी पर, पत्ते पर मकडी का जाला
सुबह सिंदूरी कहाँ दिखे
चश्मा पहना काला ..........वर्तमान के विरोधाभासों को सुन्‍दरता से उकेरती कविता।

संजय कुमार भास्‍कर ने कहा…

प्यासी रहकर स्वयं चांदनी
बांटे ओस-नमी
बिछे गलीचे हरियाली के
महफ़िल खूब जमी

........हर शब्‍द में गहराई, बहुत ही बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

abhai srivastava ने कहा…

अच्छे रूपकों के साथ रचना प्रस्तुत करने के लिए धन्यवाद

Suman ने कहा…

हर टहनी पर, पत्ते पर है
मकडी का जाला
सुबह सिंदूरी कहाँ दिखे
चश्मा पहना काला
satik baat kahi hai ..

Rajesh Kumari ने कहा…

आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार १६ /४/ १३ को चर्चा मंच पर राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी आपका वहां स्वागत है ।

Anita ने कहा…

नये समय की, नयी सीख अब
देती नयी तमीज---

सुंदर शब्द व भाव !

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

गहन भाव लिए सुंदर अभिव्यक्ति

Suresh Swapnil ने कहा…

आप की तो बात ही अलग है, ज्योति भाई. सुन्दर अभिव्यक्ति. बधाई.

अरुण कुमार निगम (mitanigoth2.blogspot.com) ने कहा…

सुंदर भाव........

प्रतिभा सक्सेना ने कहा…

' सुबह सिंदूरी कहाँ दिखे
चश्मा पहना काला '
- बिना चश्मे के देखना मुश्किल लगता है लोगों को !

कालीपद प्रसाद ने कहा…


बहुत सुन्दर प्रस्तुति !
latest post"मेरे विचार मेरी अनुभूति " ब्लॉग की वर्षगांठ
latest post वासन्ती दुर्गा पूजा

RAJA AWASTHI ने कहा…

बहुत सुन्दर गीत ज्योति खरे जी ।आपका ब्लाँग भी बहुत अच्छा है। बधाई ।

jyoti khare ने कहा…

आप सभी का आभार
आपकी प्रतिक्रिया से लेखन को उर्जा मिलती है

shashi purwar ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल बुधवार (17-04-2013) के "साहित्य दर्पण " (चर्चा मंच-1210) पर भी होगी! आपके अनमोल विचार दीजिये , मंच पर आपकी प्रतीक्षा है .
सूचनार्थ...सादर!

ऋता शेखर मधु ने कहा…

बहुत सुंदर...काला चश्मा से प्राकृतिक सौन्दर्य नहीं दिखता...गहन अभिव्यक्ति !!

vikram7 ने कहा…

Wah ati sundar

***Punam*** ने कहा…

हर टहनी पर, पत्ते पर है मकडी का जाला सुबह सिंदूरी कहाँ दिखे चश्मा पहना काला
नये समय की, नयी सीख अब देती नयी तमीज---!

bahut khoob....

रश्मि शर्मा ने कहा…

प्यासी रहकर स्वयं चांदनी बांटे ओस-नमी बिछे गलीचे हरियाली के महफ़िल खूब जमी....बहुत सुंदर रचना...

जयकृष्ण राय तुषार ने कहा…

बहुत ही सुन्दर नवगीत |

निहार रंजन ने कहा…

बहुत सुन्दर.

दिगम्बर नासवा ने कहा…

वाह ... बहुत ही सुन्दर नवगीत ...
बेहतरीन शब्द संयोजन ... मज़ा आ गया ...

expression ने कहा…

बहुत सुन्दर.....

सादर...
अनु

Kailash Sharma ने कहा…

हर टहनी पर, पत्ते पर है
मकडी का जाला
सुबह सिंदूरी कहाँ दिखे
चश्मा पहना काला

....बहुत सुन्दर और सटीक अभिव्यक्ति...

Madan Mohan Saxena ने कहा…

सुंदर .बेह्तरीन अभिव्यक्ति !शुभकामनायें.

तुषार राज रस्तोगी ने कहा…

वाह! बेहद खूबसूरत रचना |

कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
Tamasha-E-Zindagi
Tamashaezindagi FB Page

Aditya Tikku ने कहा…

सुंदर प्रस्तुति

Ashok Khachar ने कहा…

बहुत सुन्दर रचना, बहुत सुन्दर

Dr.NISHA MAHARANA ने कहा…

very nice.......

रश्मि प्रभा... ने कहा…

वक़्त बदला है,पर ख्वाहिश वही है आज भी
अब तो समझो इस बात को कि बोया पेड़ बबूल का तो आम कहाँ से खाए ....

Rewa tibrewal ने कहा…

sundar rachna

डॉ. मोनिका शर्मा ने कहा…

जीवन से जुडी सुंदर अनुभूति

Tanuj arora ने कहा…

बेहतरीन.....
नये समय की, नयी सीख अब
देती नयी तमीज---

Onkar ने कहा…

सुन्दर रचना

Priti Surana ने कहा…

सुन्दर रचना,...

VenuS "ज़ोया" ने कहा…

main aapkaa kaise shukriyaa krun.......ki aap mere blog tak ..aaye...aur fir maine aapka blog dekha....wrnaa itnii achii rchnaaye ..main pr hi nhi paati...wat a thot sir.........bahut khoob....shukriyaa...apne lekhn saajhaa krne ke liye