शुक्रवार, जून 14, 2013

पापा ---------




                                      पापा अब
                                      केवल बातें करते हैं सपनों में-------

                                      मौन साधना साधे अम्मा
                                      मंदिर जाती सुबह सुबह
                                      आँगन की उधड़ी यादों को
                                      लीपा करती जगह जगह

                                      पापा अब
                                      दिखते सिर्फ अलबम के पन्नों में-------

                                      सूख रहे गमले के पौधे
                                      मांग रहे पानी पानी
                                      अंधियारे में आंख ढूढ़ती
                                      आले की सुरमेदानी

                                      पापा अब
                                      बूंद आँख की बदली झरनों में--------

                                      उथले जीवन के बहाव में
                                      डूब गयी रिश्तों की कश्ती
                                      घर के भीतर बसती जाती
                                      अलग हुये चूल्हों की बस्ती

                                      पापा अब
                                      नहीं रहा अपनापन अपनों में
                                      पापा से
                                      हमने कल बातें की सपनों में---------

                                                                 "ज्योति खरे"  

चित्र--

"पापा" एल्बम के पन्ने से

38 टिप्‍पणियां:

Brijesh Singh ने कहा…

आपकी यह सुन्दर रचना शनिवार 15.06.2013 को निर्झर टाइम्स (http://nirjhar-times.blogspot.in) पर लिंक की गयी है! कृपया इसे देखें और अपने सुझाव दें।

Ashok Khachar ने कहा…

bhot sundar rachna hai janab waaaaah betrin jitni tarif kare utna kam hai

expression ने कहा…

बहुत सुन्दर...
मन को छूती हुई पंक्तियाँ......

सादर
अनु

प्रतिभा सक्सेना ने कहा…

उनकी स्मृतियाँ मन में संचित रह कर उन संस्कारों को और दृढ़ करें जो पिता-श्री से प्राप्त हुए हैं -यही है पितृत्व का दाय जो अगली पीढ़ियों तक पहुँचता है !!

vandana ने कहा…

सच्ची श्रद्धांजलि ....मन को छूती पंक्तियाँ

vibha rani Shrivastava ने कहा…

पापा से
हमने कल बातें की सपनों में-
दिल को छूती रचना

Dr.NISHA MAHARANA ने कहा…

पापा अब
नहीं रहा अपनापन अपनों में
पापा से
हमने कल बातें की सपनों में---------papa se dukh-dard share karne se dukh kam hote hain murt roop me bhale hi apne pas n ho par papa hai yahin kahin ....

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

मन के भावों को खूबसूरत शब्द दिये हैं ।

Maheshwari kaneri ने कहा…

भावनाओ कीसुंदर श्रद्धांजलि...


Tanuj arora ने कहा…

मन को छूती रचना...

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

इस रचना ने आपके मन के भावों को बहुत खूबसूरती से अभिव्यक्त किया है. वास्तविक श्रद्धांजलि.

रामराम.

Kailash Sharma ने कहा…

अंतस को छूती बहुत मर्मस्पर्शी प्रस्तुति...

राजेंद्र कुमार ने कहा…

बहुत ही बेहतरीन और सुन्दर प्रस्तुती ,धन्यबाद।

हरकीरत ' हीर' ने कहा…

बहुत अच्छी कविता ...
फादर्स डे की अग्रिम शुभकामनाएं ......

Aparna Bose ने कहा…

bohat sundar abhivyakti... ankhen nam go gayi...

अरुन शर्मा 'अनन्त' ने कहा…

आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (16-06-2013) के चर्चा मंच 1277 पर लिंक की गई है कृपया पधारें. सूचनार्थ

निहार रंजन ने कहा…

दिल छू गयी आपकी पंक्तियाँ.

Shalini Rastogi ने कहा…

पिता को समर्पित एक शानदार रचना ...
आपकी यह उत्कृष्ट रचना कल दिनांक १६ जून २०१३ को http://blogprasaran.blogspot.in/ ब्लॉग प्रसारण पर लिंक की गई है , कृपया पधारें व औरों को भी पढ़े...

सु..मन(Suman Kapoor) ने कहा…

मन को छूती रचना

Shalini Kaushik ने कहा…

बहुत सुन्दर भावों की अभिव्यक्ति आभार . मगरमच्छ कितने पानी में ,संग सबके देखें हम भी . आप भी जानें संपत्ति का अधिकार -४.नारी ब्लोगर्स के लिए एक नयी शुरुआत आप भी जुड़ें WOMAN ABOUT MAN "झुका दूं शीश अपना"

श्रीराम रॉय ने कहा…

आज हम जो भी हैं माता - पिता के पुण्य से ही है ...सुन्दर रचना

कालीपद प्रसाद ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
कालीपद प्रसाद ने कहा…

मार्मिक ,विनम्र श्रद्धांजलि !
latest post पिता
LATEST POST जन्म ,मृत्यु और मोक्ष !

Anju (Anu) Chaudhary ने कहा…

दिल को छू लेने वाली रचना ...

रचना दीक्षित ने कहा…

पापा अब नहीं रहा अपनापन अपनों में
पापा से
हमने कल बातें की सपनों में---------

यादें भी कहाँ पीछा छोडती हैं. भावुक प्रस्तुति.

सरिता भाटिया ने कहा…

बहुत ही सुंदर भावपूर्ण रचना sir
आपको भी पितादिवास की शुभकामनाएँ

दिगम्बर नासवा ने कहा…

गहरे भाव संजोए ...
मन को छूती हई ... आज के माहोल को कहती हई रचना ...

ज्योति-कलश ने कहा…

बहुत सुन्दर ..मन को छू लेने वाली पंक्तियाँ ..
सादर
ज्योत्स्ना शर्मा

ब्लॉग बुलेटिन ने कहा…

ब्लॉग बुलेटिन की फदर्स डे स्पेशल बुलेटिन कहीं पापा को कहना न पड़े,"मैं हार गया" - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

संजय भास्‍कर ने कहा…

फादर्स दे पर बाबूजी को बहुत बहुत नमन

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

पितृ दिवस को समर्पित बेहतरीन व सुन्दर
रचना
शुभ कामनायें...

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

बहुत सुंदर मन के भावों को बहुत खूबसूरत प्रस्तुति,,,

RECENT POST: जिन्दगी,

संतोष त्रिवेदी ने कहा…

:-(

शिवनाथ कुमार ने कहा…

पापा को याद करती बहुत ही भावमयी रचना
सादर !

डॉ. जेन्नी शबनम ने कहा…

पापा बस सपनों में ही बातें किया करते हैं... सपने में पापा से की हुई बातें याद आ गई... आँखें भींग गई. शुभकामनाएँ.

सतीश सक्सेना ने कहा…

अक्सर पेन पेन्सिल लेकर
माँ कैसी थी ?चित्र बनाते,
पापा इतना याद न आते
पर जब आते, खूब रुलाते !
उनके गले में,बाहें डाले, खूब झूलते, मेरे गीत !
पिता की उंगली पकडे पकडे,चलाना सीखे मेरे गीत

shorya Malik ने कहा…

बहुत सुंदर,दिल को छू गयी , शुभकामनाये

Vijaya Dhurve ने कहा…

बहुत सुंदर ह्रदयस्पर्शी पितृत्व को समर्पित
सुंदर भाव
सादर प्रणाम सर!