गुरुवार, मई 24, 2012

इस दौर में

महगाई के
इस दौर में
प्रेम की क्या करे बात
भूखे रहकर सूख गये
सारे के सारे जज्बात

          "ज्योति खरे"
एक टिप्पणी भेजें