गुरुवार, मार्च 28, 2013

रंग बह गये------

धुल गया
गाल पर लगा रंग 
उंगलियों के
निशान रह गये----
चलते रहे आँखों में
अतीत के चलचित्र
स्मृतियाँ रह गयी
रंग बह गये------

"ज्योति खरे" 



एक टिप्पणी भेजें