शनिवार, अप्रैल 26, 2014

और एक दिन

 
 
 
                                         घंटों पछाड़कर फींचती है
                                 खंगारकर निचोड़ती हुई
                                 बगरा देती है
                                 घाट के पत्थरों पर
                                 सूखने
                                 अपने कपड़े
                                            
                                 जैसे रात में पछाड़कर कलमुँहो ने
                                 बगरा दी थी देह
 
                                 बैठकर घाट पर उकडू
                                 मांजने लगी
                                 तम्बाखू की दुर्गन्ध से भरे दांत
                                 दारु की कसैली भभकती
                                 लार से भरी जीभ
                                 देर तक करती रही कुल्ला
 
                                  उबकाई खत्म होते ही
                                  बंद करके नाक
                                  डूब गयी नदी में
                                  कई डुबकियों के बाद
                                  रगड़कर देह में साबुन
                                  छुटाने लगी
                                  अंग अंग में लिपटा रगदा
 
                                  नदी बहा तो ले जाती है रगदा
                                  नहीं बहा पाती
                                  दरिंदों की भरी गंदगी
                                  नदी तो खुद छली जाती है
                                  पहाड़ों की रगड़ खाकर

 
                                  हांफती,कांपती
                                  चढ़ रही है घाट की सीढ़ियां
                                  जैसे चढ़ती है एक बुढ़िया
                                  मंदिर की देहरी
 
                                   गूंज रही है
                                   उसके बुदबुदाने,बड़बड़ाने की आवाज
                                   जब तक जारी रहेंगी
                                   बतौलेबाजियां
                                   घाट की सीढ़ियां इसी तरह
                                   रोती रहेंगी
                                   और एक दिन
                                   सूख जाएगी नदी
                                   रगदा बहाते बहाते ------

                                                       "ज्योति खरे"


 

21 टिप्‍पणियां:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

बहुत सुंदर रचना !

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज रविवार (27-04-2014) को मन से उभरे जज़्बात (चर्चा मंच-1595) में अद्यतन लिंक पर भी है!
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

Digamber Naswa ने कहा…

बहुत दिनों बाद आपका कुछ लिखना हुआ ...
बहुत हो प्रभावी और भावपूर्ण ... सोचने को मजबूर करती रचना ...

Vaanbhatt ने कहा…

बेहद संवेदनशील उदगार...बहुत खूब...

Kaushal Lal ने कहा…

बहुत सुंदर...

डॉ. मोनिका शर्मा ने कहा…

मर्मस्पर्शी ....सशक्त अभिव्यक्ति

Maheshwari kaneri ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!सशक्त अभिव्यक्ति

Kailash Sharma ने कहा…

अंतस को झकझोर देती बहुत मर्मस्पर्शी अभिव्यक्ति...लाज़वाब...

Pooja Singh ने कहा…

आपकी कविताएँ ही सब कह देती हैं !! शब्दों का अथाह समंदर है आपके पास !! हर बार एक नया क़िस्सा रूबरू होता है , संवेदना मन को भेदती जाती है ।

मनोज बिजनौरी ने कहा…

Ek Sundar Rachna !!
Joyti ji mere blog se judne ke liye bhaut bhaut aabhar aapka !!

प्रतिभा सक्सेना ने कहा…

संवेदनाओं को झकझोरती रचना !

Aditya Tikku ने कहा…

Bhavpurn va prabhavshali

आशा बिष्ट ने कहा…

बेहद सशक्त रचना

prritiy----sneh ने कहा…

bahut achha likha hai

shubhkamnayen

कविता रावत ने कहा…

,,बहुत मार्मिक,,
....दुखिया के भाग में दु:ख ही दु:ख...एक पहाड़ जैसा

vibha rani Shrivastava ने कहा…

शुभ प्रभात
खूबसूरत अभिव्यक्ति
उम्दा रचना

बेनामी ने कहा…

बहुत ही संवेदनशील और मार्मिक लेखन...

Aparna Sah ने कहा…

behud shasakt or sundar shabdon se sazi rachna.....

Rakesh Kumar ने कहा…

मार्मिक भावमय प्रस्तुति
आभार.

Amrita Tanmay ने कहा…

पर किसी को रुक कर सोचने की फुर्सत है कहाँ ?

Kailash Sharma ने कहा…

बहुत मार्मिक प्रस्तुति...