शनिवार, मई 10, 2014

कोई आयेगा ------

माँ दिवस पर
***************
   
                                     कोई आयेगा
                  ----------------------
                                बीनकर लाती हैं 
                                जंगल से
                                कुछ सपने
                                कुछ रिश्ते
                                कुछ लकड़ियां--
                                
                                टांग देती हैं
                                खूटी पर सपने
                                सहेजकर रखती हैं आले में
                                बिखरे रिश्ते
                                डिभरी की टिमटिमाहट मेँ
                                टटोलती हैं स्मृतियां--
                                
                                बीनकर लायीं लकड़ियों से
                                फिर जलाती हैं
                                विश्वास का चूल्हा
                                कि कोई आयेगा
                                और कहेगा
                                अम्मा
                                तुम्हे लेने आया हूं
                                घर चलो
                                बच्चों को लोरियां सुनाने------


                                                          "ज्योति खरे"







13 टिप्‍पणियां:

Ranjana Verma ने कहा…

माँ की सम्पूर्णता को व्यक्त करते हुए बेहद सुन्दर प्रस्तुति !!

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

वाह !

Rajendra Swarnkar : राजेन्द्र स्वर्णकार ने कहा…



☆★☆★☆



कि कोई आयेगा
और कहेगा
अम्मा तुम्हे लेने आया हूं
घर चलो
बच्चों को लोरियां सुनाने------

आऽऽह…!
बहुत मार्मिक !!

आदरणीय ज्योति खरे जी
सुंदर भावपूर्ण रचना के लिए हृदय से साधुवाद स्वीकार करें ।

शुभकामनाओं-मंगलकामनाओं सहित...
-राजेन्द्र स्वर्णकार


Neelima sharma ने कहा…

bahut umda

Aparna Bose ने कहा…

बीनकर लायीं लकड़ियों स फिर जलाती हैं विश्वास का चूल्हा ... maarmik prastuti

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

बहुत सुंदर मार्मिक प्रस्तुति ...!

RECENT POST आम बस तुम आम हो

Kaushal Lal ने कहा…

बेहद सुन्दर......

Digamber Naswa ने कहा…

मार्मिक ... कितना विस्वास है माँ को ... जो आशा बांधे रखती है .. अंत तक भी सिखाती है जीवन जीने का ढंग ...

jyotsana pardeep ने कहा…

bahut khoob

Vaanbhatt ने कहा…

उम्मीद पर ही जिंदगी चलती रहती है...

Prasanna Badan Chaturvedi ने कहा…

भावपूर्ण रचना....बहुत बहुत बधाई...
नयी पोस्ट@
आप की जब थी जरुरत आपने धोखा दिया(नई रिकार्डिंग)


Satish Saxena ने कहा…

बहुत मार्मिक रचना है ज्योति भाई ! बधाई !

प्रतिभा सक्सेना ने कहा…

इसी आशा पर अंत तक जिएगी ,माँ है न !