बुधवार, मई 21, 2014

नीम कड़वी ही भली------

 
 
 
 
                        दीवारों में घर की जब से
                        होने लगी है कहासुनी
                        चाहतों ने डर के मारे
                        लगा रखी है सटकनी----
 
                        लौटा वर्षों बाद गांव में
                        सहमा सा चौपाल मिला
                        रात भर अम्मा की बातें
                        आंख ने रोते सुनी----
 
                        प्यार का रिश्ता सहेजे
                        धड़कनों को साथ लाया
                        चौंक कर देखा मुझे और
                        खिलखिलाती चलते बनी----
 
                       सभ्यता का पाठ पढ़ने
                       दौड़कर बचपन गया था
                       आज तक कच्ची खड़ी है
                       वह इमारत अधबनी----
 
                       टाट पर बैठे हुए हैं
                       भूख से बेहाल बच्चे
                       धर्म की खिचड़ी परोसी
                       खैरात वाली कुनकुनी----
 
                       नीम कड़वी ही भली
                       रोग की शातिर दवा है
                       दर्द थोड़ा ठीक है
                       तबियत लेकिन अनमनी-----
 
                                                       "ज्योति खरे" 
 

16 टिप्‍पणियां:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

बहुत सुंदर रचना ।

Kaushal Lal ने कहा…

बहुत सुंदर.....

सदा ने कहा…

सभ्यता का पाठ पढ़ने
दौड़कर बचपन गया था
आज तक कच्ची खड़ी है
वह इमारत अधबनी----

हमेशा की तरह लाजवाब ....

सदा ने कहा…

सभ्यता का पाठ पढ़ने
दौड़कर बचपन गया था
आज तक कच्ची खड़ी है
वह इमारत अधबनी----

हमेशा की तरह लाजवाब ....

प्रतिभा सक्सेना ने कहा…

सुन्दर रचना !

Amrita Tanmay ने कहा…

उम्दा भाव से निहित रचना के लिए बधाई..

Vaanbhatt ने कहा…

बहुत खूब...सुन्दर कथ्य...

Digamber Naswa ने कहा…

लौटा वर्षों बाद गांव में
सहमा सा चौपाल मिला
रात भर अम्मा की बातें
आंख ने रोते सुनी---

बहुत खूब ... यादों की बीते दिनों की बातें ... मन को अक्सर नम कर देती हैं ... बेहतरीन प्रस्तुति ...

Vandana Sharma ने कहा…

Bahut hee marmik prastuti......hamrey gaon ka haal shayad yahi hai aajkal...........

Vikesh Badola ने कहा…

बहुत सुन्‍दर।

राकेश श्रीवास्तव ने कहा…

सुंदर अभिव्यक्ति .

राजेंद्र कुमार ने कहा…

आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (30.05.2014) को "समय का महत्व " (चर्चा अंक-1628)" पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, वहाँ पर आपका स्वागत है, धन्यबाद।

yashoda agrawal ने कहा…

आपकी लिखी रचना शनिवार 31 मई 2014 को लिंक की जाएगी...............
http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

Maheshwari kaneri ने कहा…

लाजवाब .बहुत सुंदर रचना ।

आशा जोगळेकर ने कहा…

दर्द थोडा ठीक है
तबियत है लेकिन अनमनी।

बहुत ही सुंदर।

Jyotsna Saxena ने कहा…

Lajawaab utkrisht Rachna...