बुधवार, मई 21, 2014

नीम कड़वी ही भली------

 
 
 
 
                        दीवारों में घर की जब से
                        होने लगी है कहासुनी
                        चाहतों ने डर के मारे
                        लगा रखी है सटकनी----
 
                        लौटा वर्षों बाद गांव में
                        सहमा सा चौपाल मिला
                        रात भर अम्मा की बातें
                        आंख ने रोते सुनी----
 
                        प्यार का रिश्ता सहेजे
                        धड़कनों को साथ लाया
                        चौंक कर देखा मुझे और
                        खिलखिलाती चलते बनी----
 
                       सभ्यता का पाठ पढ़ने
                       दौड़कर बचपन गया था
                       आज तक कच्ची खड़ी है
                       वह इमारत अधबनी----
 
                       टाट पर बैठे हुए हैं
                       भूख से बेहाल बच्चे
                       धर्म की खिचड़ी परोसी
                       खैरात वाली कुनकुनी----
 
                       नीम कड़वी ही भली
                       रोग की शातिर दवा है
                       दर्द थोड़ा ठीक है
                       तबियत लेकिन अनमनी-----
 
                                                       "ज्योति खरे" 
 
एक टिप्पणी भेजें