सोमवार, जून 02, 2014

जेठ मास में--------

     
                             अनजाने ही मिले अचानक 
                             एक दोपहरी जेठ मास में
                             खड़े रहे हम बरगद नीचे
                             तपती गरमी जेठ मास में-----

                             प्यास प्यार की लगी हुई
                             होंठ मांगते पीना
                             सरकी चुनरी ने पोंछा 
                             बहता हुआ पसीना
                             रूप सांवला हवा छू रही
                             बेला महकी जेठ मास में-----

                             बोली अनबोली आंखें
                             पता मांगती घर का
                             लिखा धूप में उंगली से
                             ह्रदय देर तक धड़का
                             कोलतार की सड़कों पर   
                             राहें पिघली जेठ मास में-----     

                             स्मृतियों के उजले वादे
                             सुबह-सुबह ही आते
                             भरे जलाशय शाम तलक
                             मन के सूखे जाते
                             आशाओं के बाग़ खिले जब 
                             यादें टपकी जेठ मास में-----

                                                           "ज्योति खरे" 

 चित्र--- गूगल से साभार

 
 

 

13 टिप्‍पणियां:

रविकर ने कहा…

आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवारीय चर्चा मंच पर ।।

Digamber Naswa ने कहा…

जेठ मॉस के इस खेल को हर साल भोगते हैं सब ... बहुत सुन्दरता से आपने इसकी कई खूबियों को संवेदना पूर्ण उतारा है इन पंक्तियों में ...

Vandana Sharma ने कहा…

Is kavita ne jeath maas ko bhi bahaar se bhar diya, ati uttam!

Kuldeep Thakur ने कहा…

नयी पुरानी हलचल का प्रयास है कि इस सुंदर रचना को अधिक से अधिक लोग पढ़ें...
जिससे रचना का संदेश सभी तक पहुंचे... इसी लिये आप की ये खूबसूरत रचना दिनांक 05/06/2014 को नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही है...हलचल में आप भी सादर आमंत्रित है...

[चर्चाकार का नैतिक करतव्य है कि किसी की रचना लिंक करने से पूर्व वह उस रचना के रचनाकार को इस की सूचना अवश्य दे...]
सादर...
चर्चाकार कुलदीप ठाकुर
क्या आप एक मंच के सदस्य नहीं है? आज ही सबसक्राइब करें, हिंदी साहित्य का एकमंच..
इस के लिये ईमेल करें...
ekmanch+subscribe@googlegroups.com पर...जुड़ जाईये... एक मंच से...

Maheshwari kaneri ने कहा…

उत्कृष्ट प्रस्तुति

HARSHVARDHAN ने कहा…

आपकी इस पोस्ट को ब्लॉग बुलेटिन की आज कि ब्लॉग बुलेटिन - श्रद्धांजलि गोपीनाथ मुंडे में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

Mahesh Barmate ने कहा…

सुंदर अभिव्यक्ति, जेठ मास में...

Pratibha Verma ने कहा…

बहुत ही सुंदर सार्थक प्रस्तुति!!!

कविता रावत ने कहा…

जेठ की गर्मी भी जरुरी है आम, खरबूजा आदि फल तेज गर्मी में ही पकते हैं, मिठास से भर जाते हैं

बहुत बढ़िया

Vaanbhatt ने कहा…

बेहद सामयिक खूबसूरत रचना...

सु..मन(Suman Kapoor) ने कहा…

ज्योति जी आपके ब्लॉग पर आना बहुत अच्छा लगा | अब आना होता रहेगा

सु..मन(Suman Kapoor) ने कहा…

ज्योति जी आपके ब्लॉग पर आना बहुत अच्छा लगा | अब आना होता रहेगा

Jyotsna Saxena ने कहा…

Khoobsoorat shringarik bhavabhivyakti