सोमवार, जून 02, 2014

जेठ मास में--------

     
                             अनजाने ही मिले अचानक 
                             एक दोपहरी जेठ मास में
                             खड़े रहे हम बरगद नीचे
                             तपती गरमी जेठ मास में-----

                             प्यास प्यार की लगी हुई
                             होंठ मांगते पीना
                             सरकी चुनरी ने पोंछा 
                             बहता हुआ पसीना
                             रूप सांवला हवा छू रही
                             बेला महकी जेठ मास में-----

                             बोली अनबोली आंखें
                             पता मांगती घर का
                             लिखा धूप में उंगली से
                             ह्रदय देर तक धड़का
                             कोलतार की सड़कों पर   
                             राहें पिघली जेठ मास में-----     

                             स्मृतियों के उजले वादे
                             सुबह-सुबह ही आते
                             भरे जलाशय शाम तलक
                             मन के सूखे जाते
                             आशाओं के बाग़ खिले जब 
                             यादें टपकी जेठ मास में-----

                                                           "ज्योति खरे" 

 चित्र--- गूगल से साभार

 
 

 

एक टिप्पणी भेजें