शुक्रवार, जून 20, 2014

फुरसतिया बादल ------

 
 
                         बजा बजा कर
                         ढोल नगाड़े
                         फुरसतिया बादल आते
                         बिजली के संग
                         रास नचाते
                         बूंद बूंद चुचुआते-----
 
                         कंक्रीट के शहर में
                         ऋतुयें रहन धरी
                         इठलाती नदियों में
                         रोवा-रेंट मची
                         तर्कहीन मौसम अब
                         तुतलाते हकलाते ------
 
                         चुल्लू जैसे बांधों में
                         मछली डूब रही
                         प्यासे जंगल में पानी
                         चिड़िया ढूंढ रही
                         प्यासी ताल-तलैयों को
                         रात-रात भरमाते ------

                                                         "ज्योति खरे"

14 टिप्‍पणियां:

सुशील कुमार जोशी ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
सुशील कुमार जोशी ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
सुशील कुमार जोशी ने कहा…

बहुत सुंदर अभिव्यक्ति ।

Vaanbhatt ने कहा…

तर्कहीन मौसम अब...तुतलाते हकलाते...बेहतरीन रचना...

Ranjana Verma ने कहा…

सच... आजकल फुरसत में बादल आते हैं बिना बर से चले जाते है कुछ बुँदे गिरा के....सुंदर अभिव्यक्ति.....

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
--
आपकी इस' प्रविष्टि् की चर्चा कल jरविवार (22-06-2014) को "आओ हिंदी बोलें" (चर्चा मंच 1651) पर भी होगी!
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

Yashwant Yash ने कहा…

कल 23/जून/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
धन्यवाद !

कालीपद प्रसाद ने कहा…

सुन्दर अभिव्यक्ति !
नौ रसों की जिंदगी !

Jaanu Barua ने कहा…

बहुत खूब |

Pratibha Verma ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

डॉ. जेन्नी शबनम ने कहा…

बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना, बधाई.

रश्मि शर्मा ने कहा…

बहुत सुंदर प्रस्‍तुति‍

Jyotsna Saxena ने कहा…

हृदयस्पर्शी भावपूर्ण अभिव्यक्ति ,,,,, दिली वाह स्वीकारें

Jyotsna Saxena ने कहा…

हृदयस्पर्शी भावपूर्ण अभिव्यक्ति ,,,,, दिली वाह स्वीकारें