शुक्रवार, जून 20, 2014

फुरसतिया बादल ------

 
 
                         बजा बजा कर
                         ढोल नगाड़े
                         फुरसतिया बादल आते
                         बिजली के संग
                         रास नचाते
                         बूंद बूंद चुचुआते-----
 
                         कंक्रीट के शहर में
                         ऋतुयें रहन धरी
                         इठलाती नदियों में
                         रोवा-रेंट मची
                         तर्कहीन मौसम अब
                         तुतलाते हकलाते ------
 
                         चुल्लू जैसे बांधों में
                         मछली डूब रही
                         प्यासे जंगल में पानी
                         चिड़िया ढूंढ रही
                         प्यासी ताल-तलैयों को
                         रात-रात भरमाते ------

                                                         "ज्योति खरे"

एक टिप्पणी भेजें