सोमवार, जुलाई 21, 2014

नदारत हो जायेगी धूप ------


 
 
 
                         काले वहशी बादलों का झुंड
                         रेशमी चादर में लिपटी
                         मासूम धूप को
                         खोंदता,लूटता
                         गरजता, धड़धड़ाता
                         अपनी उत्तेजनाओं को बरसाता  
                         चला जाता है-----
 
                         देखकर खरोंची देह
                         कराहती,सिसकती
                         मासूम धूप
                         उंगलियां चटकाती
                         दे रही जी भर कर गाली
                         मादरजात
                         कलमुंहे बादल
                         टपकाकर चले गये
                         काली बूंदें -----
 
                          बरसा लो
                          अपने भीतर का
                          कसैला चिपचिपा पानी
                          नियम के विरुद्ध जाने का परिणाम
                          आज नहीं तो कल
                          भुगतना पड़ेगा------
 
                          नदारत हो जायेगी जिस दिन ये धूप
                          धरती पर जिया जा रहा बेहतर जीवन
                          अंधेरों की तहो में
                           समा जायेगा
                           बादल
                           बूंद बूंद बरसने
                           तरस जायेगा-------
                                                     "ज्योति खरे"

19 टिप्‍पणियां:

कालीपद प्रसाद ने कहा…

अन्तिम पंकियाँ बहुत सुन्दर !
कर्मफल |
अनुभूति : वाह !क्या विचार है !

Manav Mehta 'मन' ने कहा…

बहुत बढ़िया

kuldeep thakur ने कहा…

सुंदर प्रस्तुति...
दिनांक 24/07/2014 की नयी पुरानी हलचल पर आप की रचना भी लिंक की गयी है...
हलचल में आप भी सादर आमंत्रित है...
हलचल में शामिल की गयी सभी रचनाओं पर अपनी प्रतिकृयाएं दें...
सादर...
कुलदीप ठाकुर

HARSHVARDHAN ने कहा…

आपकी इस पोस्ट को ब्लॉग बुलेटिन की आज कि बुलेटिन राष्ट्रीय झण्डा अंगीकरण दिवस, मुकेश और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

HARSHVARDHAN ने कहा…

आपकी इस पोस्ट को ब्लॉग बुलेटिन की आज कि बुलेटिन राष्ट्रीय झण्डा अंगीकरण दिवस, मुकेश और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

HARSHVARDHAN ने कहा…

आपकी इस पोस्ट को ब्लॉग बुलेटिन की आज कि बुलेटिन राष्ट्रीय झण्डा अंगीकरण दिवस, मुकेश और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

HARSHVARDHAN ने कहा…

आपकी इस पोस्ट को ब्लॉग बुलेटिन की आज कि बुलेटिन राष्ट्रीय झण्डा अंगीकरण दिवस, मुकेश और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

HARSHVARDHAN ने कहा…

आपकी इस पोस्ट को ब्लॉग बुलेटिन की आज कि बुलेटिन राष्ट्रीय झण्डा अंगीकरण दिवस, मुकेश और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

बहुत सुंदर रचना ।

Rewa tibrewal ने कहा…

sach kaha apne.....abhi bhi samay hai..agar sambhal liya tho pachtana nahi padega....sundar rachna

Smita Singh ने कहा…


क्या बात है
बहुत खूब बेहतरीन

Anusha Mishra ने कहा…

बहुत बढ़िया

Asha Saxena ने कहा…

बहुत सुन्दर भाव लिए रचना |

abhishek shukla ने कहा…

behad umda...shat shat naman sir!!!

abhishek shukla ने कहा…

behad umda...shat shat naman sir!!!

प्रतिभा सक्सेना ने कहा…

बहुत ख़ूब !

सदा ने कहा…

बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ....

Pratibha Verma ने कहा…

बेहतरीन ...

Anita ने कहा…

गहरे भाव लिये सुंदर रचना..