शुक्रवार, अगस्त 01, 2014

आवाजें सुनना पड़ेंगी -----

 
 
 
                         जो कुछ भी कुदरती था
                         उसकी सांसों से
                         आने लगी हैं
                         कराहने की आवाजें --
 
                         जमीनी विवादों के
                         संकटों को टालने
                         खानदानी परतों को तोड़कर
                         भागने लगी है जमीन --

                          गंदगी से बचने
                          क्रोध में भागती नदी
                          भूल जाती है रास्ता
                          अपने बहने का --
 
                           जंगली जड़ी बूटियों पर
                           डाका पड़ने के बाद
                           जम गई है
                           पेड़ों के घुटनों में
                           मवाद ---

 
                           सुबह से ही
                           सीमेंट की ऊंची टंकी पर बैठकर
                           सूरज
                           करता है मुखारी 
                           नहाता है दिनभर --

                            चांद
                           उल्लूओं की बारात में
                           नाचता है रातभर --  
 
                            गिट्टियों की शक्ल में
                            बिक रहें पहाड़ों की कराह
                            नहीं सुनी किसी ने
                            टूट कर गिर रहें हैं
                            पहाड़
                            कच्ची बस्तियों में ----
 
                            दब चुकी बस्ती में
                            कुछ नहीं बचा
                            बस बच्चों की
                            किताबें खुली मिली ------
                                
                                                      "ज्योति खरे"

चित्र 
गूगल से साभार




 

एक टिप्पणी भेजें