शुक्रवार, अगस्त 01, 2014

आवाजें सुनना पड़ेंगी -----

 
 
 
                         जो कुछ भी कुदरती था
                         उसकी सांसों से
                         आने लगी हैं
                         कराहने की आवाजें --
 
                         जमीनी विवादों के
                         संकटों को टालने
                         खानदानी परतों को तोड़कर
                         भागने लगी है जमीन --

                          गंदगी से बचने
                          क्रोध में भागती नदी
                          भूल जाती है रास्ता
                          अपने बहने का --
 
                           जंगली जड़ी बूटियों पर
                           डाका पड़ने के बाद
                           जम गई है
                           पेड़ों के घुटनों में
                           मवाद ---

 
                           सुबह से ही
                           सीमेंट की ऊंची टंकी पर बैठकर
                           सूरज
                           करता है मुखारी 
                           नहाता है दिनभर --

                            चांद
                           उल्लूओं की बारात में
                           नाचता है रातभर --  
 
                            गिट्टियों की शक्ल में
                            बिक रहें पहाड़ों की कराह
                            नहीं सुनी किसी ने
                            टूट कर गिर रहें हैं
                            पहाड़
                            कच्ची बस्तियों में ----
 
                            दब चुकी बस्ती में
                            कुछ नहीं बचा
                            बस बच्चों की
                            किताबें खुली मिली ------
                                
                                                      "ज्योति खरे"

चित्र 
गूगल से साभार




 

21 टिप्‍पणियां:

yashoda agrawal ने कहा…

आपकी लिखी रचना शनिवार 02 अगस्त 2014 को लिंक की जाएगी........
http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

रविकर ने कहा…

आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति आज शनिवासरीय चर्चा मंच पर ।।

सदा ने कहा…

हक़ीकत बयाँ करती अभिव्‍यक्ति ....

Vaanbhatt ने कहा…

बेहतरीन प्रस्तुति...

सु..मन(Suman Kapoor) ने कहा…

बहुत बढ़िया

Anusha Mishra ने कहा…

बहुत बढ़िया

Smita Singh ने कहा…

वाह बहुत खूब

Pratibha Verma ने कहा…

सुन्दर रचना..

संजय भास्‍कर ने कहा…

तनाव भरी चर्चाओं से बाहर आकर ऎसी रचनाएँ सुकून देती हैं. वही मुझे अभी-अभी मिला है.

Recent Post …..विषम परिस्थितियों में छाप छोड़ता लेखन -- कविता रावत :)

आशा जोगळेकर ने कहा…

हम पर्यावरण को कितनी क्षति पहुंचा रहे हैं, यह खिस खूबसूरती से बता रही है यह कविता। बहुत सुंदर।

Digamber Naswa ने कहा…

बहुत ही संवेदनशील ...
इंसान समय रहते कुछ सोच नहीं पाता ... जब प्राकृति अपना काम करती है तो सब दोष सामने आने लगते हैं ...

mahendra verma ने कहा…

प्रकृति के दर्द को आपने बखूबी बयां किया है।
मर्मस्पर्शी...!

vibha rani Shrivastava ने कहा…

कडवी सच्चाई की खुबसूरत अभिव्यक्ति .... उम्दा रचना

Anusha Mishra ने कहा…

उत्कृष्ट अभिव्‍यक्ति

Kailash Sharma ने कहा…

गिट्टियों की शक्ल में
बिक रहें पहाड़ों की कराह
नहीं सुनी किसी ने
टूट कर गिर रहें हैं
पहाड़
कच्ची बस्तियों में ----
...बहुत खूब...दिल को छूते अहसास...बहुत सटीक और सुन्दर अभिव्यक्ति...

डॉ. मोनिका शर्मा ने कहा…

मर्मस्पर्शी .... मौन को स्वर देती सशक्त अभिव्यक्ति

चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ ने कहा…

kya baat! waah!

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

वाह ।

निर्मला कपिला ने कहा…

मर्म स्पर्शी रचना सच में पृथवी का दोहन यही कुछ दिखाएगा

Satish Saxena ने कहा…

मार्मिक अभिव्यक्ति !! आभार आपका

Lekhika 'Pari M Shlok' ने कहा…

marm ko chuti rachna...