शुक्रवार, अगस्त 15, 2014

आजादी ------ ???

 
समय की रेत पर
अंधाधुंध भागते पैरों के निशान
गवाह हैं कि
चीरकर गुलामी को
फेंफड़ों में भर दी गयी गई थी
आजाद सांसें
 
आज यही सांसें
सबसे मासूम
सबसे नर्म
और सबसे अधिक लाचार हैं
 
पागल कोख से जन्मी
पागल आजादी
अपने जिस्म को
खूंखार वहशियों के हत्थे
चढ़ती, उतरती
नजरों से बचती
सड़कों पर घूम रही है
लावारिस,अशांत
किसी दुत्कारे जानवर की तरह
 
समय की काली रेत पर 
आजादी को
नोंचने,खसोटने 
अपनी बांहों में भरने की होड़ में
खोखले आचरण
खोखली औपचारिकता
खोखले संबंधों को
उढ़ा रहें हैं
केशरिया,सफेद,हरा
 
समय की रेत पर
सफर का पहला कदम रखने से पहले
यह तय करना होगा
सड़कों पर भटकती
लावारिस आजादी को
घर लाना है ------
 
"ज्योति खरे"

 

एक टिप्पणी भेजें