सोमवार, फ़रवरी 03, 2014

वाह !! बसंत--------

 
                     अच्छा हुआ
                     इस सर्दीले वातावरण में
                     लौट आये हो--
 
                     बदल गई
                     बर्फीले प्रेम की तासीर
                     जमने लगीं
                     मौसम की नंगी देह पर
                     कुनकुनाहट-----
 
                     लम्बे अवकाश के बाद
                     सांकल के भीतर
                     होने लगी खुसुर-पुसुर
                     इतराने लगी दोपहर
                     गुड़ की लईया चबाचबा कर-----

 
                     वाह! बसंत
                     तुम अच्छे लगते हो
                     प्रेम के गीत गाते----

                                       "ज्योति खरे" 

चित्र- गूगल से साभार










एक टिप्पणी भेजें