बुधवार, दिसंबर 17, 2014

दुनियां की सभी माओं के आंसू ----


सीढ़ी पर बैठे बच्चे
बच्चे नहीं
समूची दुनियां के
नयी सदी के मनुष्य थे
 
सीढ़ी पर बैठकर बच्चे
घुप्प अंधेरे और
आतंक के साये में
जीवन की नयी संभावनाओं का
तार-तार बुन रहे थे
पढ़ रहे थे
मनुष्यता का पाठ
चाहते थे
दुनियां के हर बच्चेां से
दोस्ती करना
 
सीढ़ी पर बैठकर बच्चे
पकड़े थे माँ का आँचल
पापा की उंगली
दादा की लाठी
दादी का चश्मा
 
दुनियां के ये बच्चे
अपनी अपनी माँ से कह रहे थे
पोंछती रहें हर बच्चे के आंसू 
कह रहे थे पापा से
आतंक के अंधेरे को करते रहें नष्ट
तय करें उजाले का सफर
कह रहे थे दादी से
चश्मे के बिना तारे गिनों
दादा की लाठी से
बदलना चाहते थे
संस्कृति
 
सीढ़ी पर बैठे बच्चे
सभ्यता और संस्कृति की
भरी बंदूक से
मार दिये गए
पाठशाला में ही रंग गयी
मनुष्यता का पाठ पढ़ाने वाली किताबें
 
क्या अब
उसी सीढ़ी पर बैठकर बुद्धिजीवी
तलाशकर लौटा पायेंगे
मां की गोद के
लापता खून से लथपथ बच्चे
 
दुनियां के बचे हुए लोगो
सभ्यता और संस्कृति की
ओढ़कर तार-तार चादर
आसमान में देखो
ध्रुव तारे के पास से
बह रहे हैं
दुनियां की सभी माओं के आंसू ------

"ज्योति खरे"



एक टिप्पणी भेजें