शुक्रवार, जनवरी 03, 2014

कि बाकी है --------

 
                     डूबते सूरज को
                     उठाकर ले आया हूं--
                     
                     कि बाकी है
                     घुप्प अंधेरों के खिलाफ
                     लड़ना-
                     
                     कि बाकी है
                     साजिशों की
                     काली चादर से ढकीं
                     बस्तियां की हर चौखट को
                     धूप सा चमकना-
                     
                     कि बाकी है 
                     उजली सलवार कमीज़ पहनकर
                     नंगों की नंगई को
                     चीरते निकल जाना-
                     
                     कि बाकी है
                     काली करतूतों की
                     काली किताब का
                     ख़ाक होना-
                     
                     कि बाकी है
                     धरती पर
                     सुनहरी किरणों से
                     सुनहरी व्याख्या लिखना-
                     
                     कि कुछ बाकी ना रहे
                     सूरज दिलेरी से ऊगो
                     आगे बढ़ो
                     हम सब तुम्हारे साथ हैं-
                     इंकलाब जिन्दाबाद
                     इंकलाब जिन्दाबाद -----
                                            
                                            "ज्योति खरे"
चित्र साभार--गूगल 


25 टिप्‍पणियां:

Kaushal Lal ने कहा…

सुन्दर.... नव् वर्ष कि हार्दिक शुभकामना

Aparna Bose ने कहा…

कि बाकी है
उजली सलवार कमीज़ पहनकर
नंगों की नंगई को
चीरते निकल जाना-

pataa nahin kab aisa sambhav ho sakega...

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

बहुत सुंदर प्रस्तुति...!
नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाए...!
RECENT POST -: नये साल का पहला दिन.

expression ने कहा…

बाकी है बहुत कुछ...बाकी है सारा जीवन....
सुन्दर रचना
सादर
अनु

Saras ने कहा…

वाह ज्योतिजी !!!

Ranjana Verma ने कहा…

बहुत सुंदर रचना....!!
उगते हुए सूरज के आशाओं से भरी सुंदर प्रस्तुति..

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

सुंदर !

Reena Maurya ने कहा…

बहुत ही बेहतरीन समसामयिक रचना..
बहुत सुन्दर...
http://mauryareena.blogspot.in/
:-)

Vikesh Badola ने कहा…

आपने सच्‍चे मन से कामना की है, सूरज उगेगा जरूर उगेगा।

Yashwant Yash ने कहा…

आप को नव वर्ष 2014 की सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएँ!

कल 05/01/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
धन्यवाद!

डॉ. जेन्नी शबनम ने कहा…

कि कुछ बाकी ना रहे
सूरज दिलेरी से ऊगो
आगे बढ़ो
हम सब तुम्हारे साथ हैं-
इंकलाब जिन्दाबाद
इंकलाब जिन्दाबाद -----

आह्वाहन करते प्रेरक भाव. जाने क्यों आजकल सूरज अस्त ही रहना चाहता. शायद उसकी आग निस्तेज कर दी गई है जन्म से ही, जिसे सूरज अपनी तपन दिया करता था ताकि रोशनी पसरे. नई ताकत को जागना ही होगा...

Vaanbhatt ने कहा…

इंकलाब की भावना अपने आप में उजाले की द्योतक है...

डॉ. मोनिका शर्मा ने कहा…

समसामयिक और सटीक भाव..... बहुत उम्दा

jyoti khare ने कहा…

आभार आपका

jyoti khare ने कहा…

आभार आपका

jyoti khare ने कहा…

आभार आपका

jyoti khare ने कहा…

आभार आपका

कालीपद प्रसाद ने कहा…

बहुत सुन्दर भाव ,बहुत सुन्दर प्रस्तुति !
नया वर्ष २०१४ मंगलमय हो |सुख ,शांति ,स्वास्थ्यकर हो |कल्याणकारी हो |

नई पोस्ट सर्दी का मौसम!
नई पोस्ट विचित्र प्रकृति

jyoti khare ने कहा…

आभार आपका

हिमकर श्याम ने कहा…

आपके ब्लॉग पर पहली बार आया, बहुत खूब लिखा है आपने, बधाई !... नव वर्ष की मंगलकामनाएं.
हिमकर श्याम
http://himkarshyam.blogspot.in

Suman ने कहा…

सुन्दर रचना ..
नव वर्ष मंगलमय हो, आभार के साथ !

Amrita Tanmay ने कहा…

जिन्दाबाद !

ब्लॉग - चिठ्ठा ने कहा…

आपकी इस ब्लॉग-प्रस्तुति को हिंदी ब्लॉगजगत की सर्वश्रेष्ठ कड़ियाँ (3 से 9 जनवरी, 2014) में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,,सादर …. आभार।।

कृपया "ब्लॉग - चिठ्ठा" के फेसबुक पेज को भी लाइक करें :- ब्लॉग - चिठ्ठा

Onkar ने कहा…

बहुत खूब

RAJA AWASTHI ने कहा…

आदरणीय ,इस कविता को पढ़कर इंकलाब जिंदाबाद कहने को ही मन कर रहा है। तो इंकलाब जिंदाबाद।