शुक्रवार, जनवरी 03, 2014

कि बाकी है --------

 
                     डूबते सूरज को
                     उठाकर ले आया हूं--
                     
                     कि बाकी है
                     घुप्प अंधेरों के खिलाफ
                     लड़ना-
                     
                     कि बाकी है
                     साजिशों की
                     काली चादर से ढकीं
                     बस्तियां की हर चौखट को
                     धूप सा चमकना-
                     
                     कि बाकी है 
                     उजली सलवार कमीज़ पहनकर
                     नंगों की नंगई को
                     चीरते निकल जाना-
                     
                     कि बाकी है
                     काली करतूतों की
                     काली किताब का
                     ख़ाक होना-
                     
                     कि बाकी है
                     धरती पर
                     सुनहरी किरणों से
                     सुनहरी व्याख्या लिखना-
                     
                     कि कुछ बाकी ना रहे
                     सूरज दिलेरी से ऊगो
                     आगे बढ़ो
                     हम सब तुम्हारे साथ हैं-
                     इंकलाब जिन्दाबाद
                     इंकलाब जिन्दाबाद -----
                                            
                                            "ज्योति खरे"
चित्र साभार--गूगल 


एक टिप्पणी भेजें