शुक्रवार, जनवरी 10, 2014

आलिंगन को आतुर------

                       ठंड रजाई में
                       दुबकी पड़ी-- 
                       धूप कोने में
                       सहमी शरमाई सी
                       खड़ी-----
 
                       टपक रही सुबह
                       कोहरे के संग
                       सूरज के टूट गए
                       सारे अनुबंध
                       कड़कड़ाते समय में
                       दौड़ रही
                       घड़ी-----
 
                       आलिंगन को आतुर
                       बर्फीली रातें
                       गर्माते होंठों से
                       जीवन की बातें
                       ना जाने की जिद पर
                       कपकपाती धुंध
                       अड़ी------

                                      "ज्योति खरे" 


चित्र--
गूगल से आभार
एक टिप्पणी भेजें