गुरुवार, दिसंबर 19, 2013

बेहरूपिये सो रहें हैं-------

                       समर्थक परजीवी हो रहें हैं
                       सड़क पर कोलाहल बो रहें हैं----

                       शिकायतें द्वार पर टांग कर
                       हस्ताक्षर सलीके से रो रहें हैं----
 
                       जश्न में डूबा समय अब मौन है
                       थैलियां आश्वासन की खो रहें हैं----
 
                       चौखटों के पांव पड़ते थक गऐ
                       भदरंगे बेहरूपिये सो रहें हैं----
 
                       घाट पर धुलने गई है व्यवस्था
                       आँख से बलात्कार हो रहें हैं----


                                                      "ज्योति खरे"

 
एक टिप्पणी भेजें