सोमवार, नवंबर 25, 2013

आशाओं की डिभरी ----------


                      कंक्रीट के जंगल में 
                      जो दिख रहें हैं
                      सतरंगी खिले हुए
                      दर्दीले फूल
                      अनगिनत आंख से टपके
                      कतरे से खिलें हैं ---

                      फाड़कर चले जाते थे जो तुम
                      आहटों के रेशमी पर्दे
                      आश्वासनों कि जंग लगी सुई से
                      रोज ही सिले हैं---

                      जहरीली हवाओं से कहीं
                      बुझ ना जाए
                      आशाओं की डिभरी
                      चढ़ी है भावनाओं की सांकल
                      दरवाजे इसीलिए नहीं खुले हैं---

                      पवित्र तो कतई नहीं हो
                      मनाने चौखट पर नहीं आना 
                      बदबूदार हो जाएगा वातावरण
                      हमें मालूम है
                      कलफ किए तुम्हारे
                      सफ़ेद पीले कुर्ते
                      गंदे पानी से धुले हैं------

                                          "ज्योति खरे"
चित्र 
गूगल से साभार

एक टिप्पणी भेजें