गुरुवार, मई 02, 2013

राजघाट में----------

                               राजघाट में
                               सज गयीं
                               तिरंगे झंडे की दुकानें
                               असंख्य मोमबत्तियां जलने लगीं दिन दहाड़े
                                छप कर आ गये धड़ाधड़ बैनर,नारे,पोस्टर    
                                चटक गयी मीडिया की
                                जगह-जगह तान दिये कैमरे
                                तैनात कर दिये गये सबसे ज्यादा लफ्बाज रिपोर्टर--

                                निकल कर आ गये वातानुकूलित कमरे से नेता 
                                कलफ किया खादी का कुर्ता पहनकर------

                                चांदी हो गयी बैनर,पोस्टर बनाने वालों की 
                                अंग्रेजी शराब दुगनी कीमत पर बिकने लगी  
                                युवाओं के चेहरों में चमक आ गयी 
                                घबड़ाहट में खरीदकर ले आयीं
                                स्वयं सेवी महिलायें 
                                काटन की सालग्रस्त साडियां----- 
                                 
                                 मची गयी सरकार में गहमा-गहमी 
                                 कि----कौन---इस विषय में अच्छा बोलेगा
                                 सरकार बचाने का मूल्य तौलेगा
                                 प्रशासन ने सेना को बुलवा लिया
                                 सच को कुचलने की योजना बना ली है------
                                  यह सम्पूर्ण तैयारी
                                  राजघाट में एक शव को रखे जाने की है 
                                  जिसे पंचनामे के बाद 
                                  रात के अंतिम पहर दफना दिया जायेगा  
                                  मौन श्रधांजली देकर
                                  सरबजीत को 
                                  भुला दिया जायेगा--------
                                                                      "ज्योति खरे"


  

39 टिप्‍पणियां:

विभा रानी श्रीवास्तव ने कहा…

शुभप्रभात
मौन श्रधांजली देकर सरबजीत को भुला दिया जायेगा--------
किसी दुसरे का इंतज़ार किया जाएगा
सादर

विभा रानी श्रीवास्तव ने कहा…

शुभप्रभात
मौन श्रधांजली देकर सरबजीत को भुला दिया जायेगा--------
किसी दुसरे का इंतज़ार किया जाएगा
सादर

Dr.NISHA MAHARANA ने कहा…

asliyat koso door rahti hai dikhawon ke aage ....

राहुल ने कहा…

ढोंग-पाखण्ड का नाटक चलता रहेगा... बढ़िया पोस्ट ...

ashokkhachar56@gmail.com ने कहा…

बढ़िया पोस्ट

Ranjana verma ने कहा…

सब नकाब पोश हैं बस नाटक कर रहें है..

Ranjana verma ने कहा…

सब नकाब पोश हैं बस नाटक कर रहें है..

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

पहले सरकार कुछ नहीं करती ... बाद में लकीर पीटने का काम बखूबी करती है ।

सदा ने कहा…

जिसे पंचनामे के बाद
रात के अंतिम पहर दफना दिया जायेगा
यह सब भी करने की क्‍या जरूरत है उन्‍हें ...

Harihar (विकेश कुमार बडोला) ने कहा…

भूल जाने कल तक दुख

आज की राजनीति का निर्माण हो रहा है

HARSHVARDHAN ने कहा…

एक यादगार प्रस्तुति। आभार

HARSHVARDHAN ने कहा…

एक यादगार प्रस्तुति। आभार

vandan gupta ने कहा…

आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा शनिवार(4-5-2013) के चर्चा मंच पर भी है ।
सूचनार्थ!

bharadwaj ने कहा…

aaj ke neta jab apane pariwar ko hi dhokha de rahe hai to vo sarv jeet ya kisi anya aam aadami ka kya shok karenge dikhava bhi unaki rajanaitik (vyavasayika) majaburi hai.

ब्लॉग बुलेटिन ने कहा…

आज की ब्लॉग बुलेटिन तुम मानो न मानो ... सरबजीत शहीद हुआ है - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

कालीपद "प्रसाद" ने कहा…

सबके सब चुनाव चक्कर में दिखावा कर रहे है
lateast post मैं कौन हूँ ?
latest post परम्परा

Rajendra kumar ने कहा…

नकाबपोशों की दुनियां है,बेहतरीन प्रस्तुति,आभार.

ओंकारनाथ मिश्र ने कहा…

कब खत्म होगा ये सिलसिला. सुन्दर रचना.

पूरण खण्डेलवाल ने कहा…

पाखण्डीयों कि दुनिया है !!

प्रतिभा सक्सेना ने कहा…

एक दिन का यह तमाशा दिखाने से हमारे मदारी क्यों चूकें !

Saras ने कहा…

दुखद ....!!!

संजय भास्‍कर ने कहा…

बेहतरीन शब्द चयन और बहुत ही सशक्त भावाभिव्यक्ति ! अति सुन्दर !

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

बहुत उम्दा, सशक्त अभिव्यक्ति,,,

RECENT POST: दीदार होता है,

http://anusamvedna.blogspot.com ने कहा…

बेहतरीन व सशक्त अभिव्यक्ति

Anju (Anu) Chaudhary ने कहा…

कड़वा सच

Sneha Rahul Choudhary ने कहा…

जैसे आरुषि भुला दी गयी. जैसे आर्य भुला दी गयी, जैसे दामिनी भूल दी गयी, वैसे ही सरबजीत को भी भुला दिया जाएगा और हम सब भी वापस अपने काम धंधे पर लग जायेंगे.

nayee dunia ने कहा…

सच्ची बात कही जी

Unknown ने कहा…

बिलकुल सही कहा है आप ने

रचना दीक्षित ने कहा…

सुनियोजित और सुनियंत्रित नाट्य मंचन.

संवेदनशील प्रस्तुति.

Satish Saxena ने कहा…

यही रीति है हमारी ...
नोट कमाने की सोंचे या शहीदों के लिए रोयें ..??

अभिमन्‍यु भारद्वाज ने कहा…

बहुत ही सुन्‍दर लेख
हिन्‍दी तकनीकी क्षेत्र की रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारियॉ प्राप्‍त करने के लिये इसे एक बार अवश्‍य देखें,
लेख पसंद आने पर टिप्‍प्‍णी द्वारा अपनी बहुमूल्‍य राय से अवगत करायें, अनुसरण कर सहयोग भी प्रदान करें
MY BIG GUIDE

Unknown ने कहा…

स्मरणीय प्रस्तुति,

Tanuj arora ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति
सच का आईना दिखलाती रचना.

Aparna Bose ने कहा…

एक नया पाखण्ड ...चुनाव जीतने के लिए ये लोग अब कितना नौटंकी करेंगे

दिगम्बर नासवा ने कहा…

कितना कठोर है सत्य ...
जब असंख्य कुर्बानियों को भुला दिया तो ये क्या है ...

Suman ने कहा…

bilkul sahi kaha hai !

शब्द मसीहा ने कहा…

Bahut sunder aur satya sree..hardik badhai ji

अनाम ने कहा…

देश का बेटा मरा है और सत्ता सो रही है .
आम जनता राजपथ को आसुंओं से धो रही है .
देख कर मासूम चहरा लापता सर याद आया -
ये शहीदों की धरा अब कायरों पे रो रही है .
-- नरोत्तम व्यास .

अनाम ने कहा…

excellent...
दिखावे की ही दुनिया है आजकल