गुरुवार, मई 02, 2013

राजघाट में----------

                               राजघाट में
                               सज गयीं
                               तिरंगे झंडे की दुकानें
                               असंख्य मोमबत्तियां जलने लगीं दिन दहाड़े
                                छप कर आ गये धड़ाधड़ बैनर,नारे,पोस्टर    
                                चटक गयी मीडिया की
                                जगह-जगह तान दिये कैमरे
                                तैनात कर दिये गये सबसे ज्यादा लफ्बाज रिपोर्टर--

                                निकल कर आ गये वातानुकूलित कमरे से नेता 
                                कलफ किया खादी का कुर्ता पहनकर------

                                चांदी हो गयी बैनर,पोस्टर बनाने वालों की 
                                अंग्रेजी शराब दुगनी कीमत पर बिकने लगी  
                                युवाओं के चेहरों में चमक आ गयी 
                                घबड़ाहट में खरीदकर ले आयीं
                                स्वयं सेवी महिलायें 
                                काटन की सालग्रस्त साडियां----- 
                                 
                                 मची गयी सरकार में गहमा-गहमी 
                                 कि----कौन---इस विषय में अच्छा बोलेगा
                                 सरकार बचाने का मूल्य तौलेगा
                                 प्रशासन ने सेना को बुलवा लिया
                                 सच को कुचलने की योजना बना ली है------
                                  यह सम्पूर्ण तैयारी
                                  राजघाट में एक शव को रखे जाने की है 
                                  जिसे पंचनामे के बाद 
                                  रात के अंतिम पहर दफना दिया जायेगा  
                                  मौन श्रधांजली देकर
                                  सरबजीत को 
                                  भुला दिया जायेगा--------
                                                                      "ज्योति खरे"


  

एक टिप्पणी भेजें